महादेवा मेला 20 से, मेले की तैयारियों में जुटा जिला प्रशासन

महादेवा मेला 20 से, मेले की तैयारियों में जुटा जिला प्रशासनमहादेवा मेला , सावन मेला,जिला प्रशासन

बाराबंकी। 20 जुलाई, 2016 से शुरू हो रहे महादेवा सावन मेले की तैयारी जिला प्रशासन द्वारा शुरू कर दी गयी है। जिलाधिकारी अजय यादव और पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद ने जिले के अधिकारियों और महादेवा मेला से जुड़े गणमान्य व्यक्तियों के साथ डीआरडीए सभागार में सावन मेले की व्यवस्था के सम्बन्ध में बैठक की और सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

मार्गों काे चकाचौबंद रखने की पूर्ण व्यवस्था

जिलाधिकारी अजय यादव की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई इस बैठक में निर्णय लिया गया कि महादेवा में आयोजित होने वाले सभी मेलों की प्रभावी व्यवस्था के प्रबन्धन रणनीति तैयार की गई है। जिलाधिकारी ने कहा कि मेले में व्यवस्था के लिए जिला प्रशासन द्वारा लाउडस्पीकर की व्यवस्था की गई हैै, जिससे ड्यूटी पर लगे अधिकारियों को दिशा निर्देश दिये जाएंगे और आने वाले श्रद्धालुओं को समय-समय पर समुचित जरूरी सूचनायें भी दी जाएंगी।

उन्होंने ने कहा इससे ट्रैफिक डाइवर्जन को चाकचौबन्द और व्यवस्था को दुरुस्त करने के साथ ही साथ उप जिलाधिकारी, सीओ और थानाध्यक्श को जरूरी निर्देश दिए जा सकेंगे। जिलाधिकारी अजय यादव ने महादेवा मेले के दृश्टिगत पीडब्लूडी के अधिशाशी अभियंताओं को निर्देश दिया कि बाराबंकी, फतेहपुर, सूरतगंज और अन्य कस्बों स्थानों से महादेवा को जुड़ने वाले सड़क मार्ग को पूरी तरह दुरुस्त कराया जाए।

श्रद्धालुओं की मदद करेंगे कार्यकर्ता

जिलाधिकारी ने जिला पंचायतराज अधिकारी को निर्देश दिया कि मेेले में आने वाले श्रद्धालुओं की सहायता के लिए नेहरू युवा केन्द्र के कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई जाती है। यह कार्यकर्ता स्वैच्छिक रूप से प्रशासन का सहयोग करते है। मेला अवधि में इनकी सुविधा के लिए समुचित प्रबन्ध किए जाए।

मेले में होगी बैरीकेटिंग

मेले में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए पीडब्लूडी को बैरीकेटिंग लगाने के निर्देश दिए गए है। जिला पंचायत द्वारा मेला परिसर एवं आस-पास प्रकाश की व्यवस्था कराई जाएगी। मेला परिसर स्थित दोनों तालाबों पर प्रकाश की विशेश व्यवस्था होगी। बाढ़ खंड तालाब की बैरीकेटिंग और नलकूप विभाग तालाब में पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्धता सुनिश्चित करेगा। तालाब की समुचित सफाई कराने के निर्देश दिए है। थानाध्यक्ष को निर्देश दिया गया है कि तालाब पर स्थानीय गोताखोरों की उपलब्धता सुनिश्चित रखेंगे। मुख्य चिकित्साधिकारी सावन मेले के दौरान बाराबंकी, मसौली और रामनगर में पूरे समय एम्बुलेंस की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे।

लगेंगे सीसीटीवी कैमरे

20 जुलाई से महादेवा का सावन मेला शुरू हो रहा है। महादेवा मेले में सुरक्शा की दृश्टि से सीसीटीवी लगाए जाएंगे। उन्होंने सभी थानाध्यक्षों को निर्देश दिया कि महादेवा से जुड़े सभी सड़क मार्गों पर मीट, मछली, अंडे और की बिक्री करने वाली दुकानों को मेला अवधि के दौरान बंद कराना सुनिश्चित करेंगे।

यहां गूंजता है हर-हर भोल का जयकारा 

यूपी के बाराबंकी में स्थित लोधेश्वर महादेवा शिव भक्तों का वो संगम है जहां आस्था सिर चढ़ कर बोलती है। वैसे तो महादेवा में हर दिन शिव भक्तों की भीड़ जमा रहती है लेकिन फाल्गुन महीने में कांवरिये कई राज्यों से पद यात्रा कर उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जनपद स्थित रामनगर तहसील अंतर्गत घाघरा नदी के किनारे महादेवा पहुंचते हैं और भोलेनाथ शिव शंकर के दर्शन कर धन्य होते है हर जगह हर-हर भोले, जय भोले के नाम से जयकारा गूंजता नजर आता है।

सपने में मिला प्राचीन शिवलिंग

मंदिर के पुजारी रामदास के अनुसार वो बताते हैं कि ये शिवलिंग प्राचीन काल महाभारत के समय की है और इसकी पौराणिक कहानी भी है। पाचों पांडवों ने इस शिव लिंग को स्थापित कर पूजा अर्चना की थी लेकिन कालांतर में ये शिव लिंग लुप्त हो गयी थी बाद में ये शिवलिंग किसान लोधेराम के खेत से मिली थी। लोधेराम सपने में देखा की वह अपने खेतों में पानी दे रहा है और सारा पानी खेत में ना जाकर एक गड्ढे में जा रहा था जहां पानी जा रहा है वहां शिवलिंग है। सुबह होते ही लोधे राम ने खेत में बने गड्ढे खोदा तो नजारा सचमुच वैसा ही था जैसा उन्होंने सपने में देखा था। बाराबंकी के विद्वानों का कहना है की ये वही शिवलिंग है जिसे पांचों पांडवों ने स्थापित कर पूजा अर्चना  की थी बाद में लोधेराम किसान के  नाम से लोधेश्वर महादेव नाम पड़ा।

रिपोर्टर - सतीश कश्यप

Tags:    India 
Share it
Top