महिलाओं की सुरक्षा के लिए बसों में लगाए जाएगें पैनिक बटन

महिलाओं की सुरक्षा के लिए बसों में लगाए जाएगें पैनिक बटनgaonconnection

जयपुर (भाषा)। राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम देश का ऐसा प्रथम निगम बन गया है, जिसकी बसों में महिलाओं से छेड़छाड़ करने वाले लोग तुरंत पकड़े जा सकेंगे।

पैनिक बटन युक्त बसों की प्रायोगिक योजना का शुभारंभ दिल्ली में  केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी, राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम ने किया। 

राजस्थान के परिवहन मंत्री युनूस खान के अनुसार रोडवेज की उच्च तकनीकी युक्त बसों में सफर करने वाली महिला यात्री या किसी भी यात्री को खतरा महसूस होने पर बस में लगे पैनिक बटन को दबाना होगा। अगले ही पल बस का नम्बर और बस की लोकेशन (स्थल) एसएमएस के माध्यम से मुख्य प्रबंधक को मिल जाएगी। उन्होने बताया कि सन्देश मिलते ही सम्बधित मुख्य प्रबंधक यात्री को तुरंत मदद उपलब्ध करवाएगा और छेड़छाड़ करने वाले के खिलाफ अग्रिम कार्रवाई करेगा।

‘’महिला सुरक्षा के लिए पैनिक बटन सिस्टम प्रायोगिक तौर पर दस एक्स्रपेस और दस वातानुकूलित बसों में शुरू हो गया है। यह प्रयोग सफल होने के बाद रोडवेज की सभी बसों में यह सिस्टम लगाया जाएगा।’’परिवहन मंत्री ने बताया।

यतायात के दौरान महिला सुरक्षा के लिए शुरू होगी निर्भया योजना

नई दिल्ली। सड़क परिवहन और राजमार्ग एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने राष्ट्रीय राजधानी में निर्भया योजना के तहत महिलाओं की सुरक्षा के साथ देश की जनता को विशेष बसें समर्पित करेंगे। 

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बताया,’’ इस प्रस्ताव में राष्ट्रीय स्तर पर राष्ट्रीय वाहन सुरक्षा और वाहनों की ट्रैकिंग व्यवस्था, आपातकालीन बटन और घटनाओं की वीडियो रिकॉर्डिंग के लिए राज्य स्तर पर एक नियंत्रण केंद्र स्थापित किया जाएगा। इस योजना के तहत पहले चरण में एक लाख या इससे अधिक की आबादी के साथ देश में 13 राज्यों के 32 शहरों को शामिल किया जाएगा। इस परियोजना की कुल अनुमानित लागत 1404.68 करोड़ रुपए है, जो ‘निर्भया फंड’ से वित्त मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित की जाएगी। इस योजना का परिचालन एक से लाख से अधिक प्रमुख शहरों में परिचालन किया जाएगा।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top