मिग-29 के विमान संचालनात्मक कमियों का सामना कर रहे हैं: सीएजी

मिग-29 के विमान संचालनात्मक कमियों का सामना कर रहे हैं: सीएजीgaonconnection

नई दिल्ली (भाषा)। भारत की मुख्यधारा का नौसैनिक लड़ाकू विमान मिग-29 के इंजन, एयरफ्रेम और फ्लाई-बाई-वायर प्रणाली में खामी की वजह से संचालनात्मक कमियों का सामना कर रहा है, जिसकी वजह से बेहद कम उपलब्धता है। शीर्ष सरकारी लेखाकार ने स्वदेशी विमान वाहक के निर्माण में विलंब के लिए आलोचना भी की।

नियंत्रक और महालेखा परीक्षक ने संसद में आज पेश की गई अपनी रिपोर्ट में कहा कि विमान को विसंगतियों के बावजूद तकनीकी तौर पर स्वीकार किया जा रहा है। सीएजी ने कहा, ‘‘मिग-29 के जो अनेक भूमिकाएं निभाने में सक्षम विमान है और हवाई रक्षा बेड़े का अभिन्न हिस्सा वह एयरफ्रेम, आरडी MK-33 इंजन और फ्लाई-बाई-वायर प्रणाली में समस्याओं से ग्रस्त है।''

युद्धक विमानों की सर्विसेबिलिटी बेहद कम है। यह 15.93 फीसदी से 37.63 फीसदी तक है और मिग-29 केयूबी की सर्विसेबिलिटी 21.30 प्रतिशत से 47.14 फीसदी तक है। सर्विसेबिलिटी से आशय किसी समय में समूची क्षमता से संचालन के लिए उपलब्ध विमानों की संख्या से है। सीएजी ने कहा कि विशाखापत्तनम में आधारभूत संरचना का विस्तार 2009 में मंजूरी दिए जाने के छह साल बाद भी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट के चरण में है।

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top