Top

गुणों की खान है नारियल तेल 

Deepak AcharyaDeepak Acharya   25 Feb 2017 6:06 PM GMT

गुणों की खान है नारियल तेल भारत, श्रीलंका, थाईलैंड, फिलीपीन्स जैसे देशों में नारियल के तेल को अनेक रूप से उपयोग में लाया जाता है और इन्हीं देशों में इसे व्यवसायिक तौर पर उत्पादित भी किया जाता है।

भारत, श्रीलंका, थाईलैंड, फिलीपीन्स जैसे देशों में नारियल के तेल को अनेक रूप से उपयोग में लाया जाता है और इन्हीं देशों में इसे व्यवसायिक तौर पर उत्पादित भी किया जाता है। एक दौर था जब अमेरिका और कनाडा जैसे देशों में नारियल तेल का भरपूर उपयोग किया जाता था लेकिन 1970 के दशक में कॉर्न और सोयाबीन तेल के उत्पादकों द्वारा नारियल तेल का बेहद कुप्रचार किया गया और दलीलें दी गयी कि यह हमारे शरीर के लिए कई मायनों में हानिकारक है।

सेहत से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सन 2000 के बाद आधुनिक शोध रिपोर्ट्स से जानकारी मिलना शुरू हुई कि नारियल का तेल बेहद गुणकारी है। नारियल का तेल नारियल के फल से निकाला से जाता है और जब ताज़े नारियल से इसका तेल प्राप्त होता है तो इसे वर्जिन कोकोनट ऑइल कहा जाता है और ज्यादा बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करने के लिए उद्योग तमाम केमिकल प्रोसेसिंग्स और ब्लीचींग आदि के बाद इसे बाज़ार में लाते हैं। चलिए इस सप्ताह आप सब पाठकों को नारियल तेल के खास गुणों से परिचित करवाता हूं, इसमें से ऐसे कई गुण होंगे जिनके बारे में आपने शायद पहले कभी सुना नहीं हो।

बालों की सेहत

नारियल का तेल आपके बालों की सेहत के लिए प्रकृति का सबसे बढ़िया पोषक उपाय है, ये बालों की सेहत दुरुस्त करने में खास कारगर साबित होता है। जो लोग नित्य अपने बालों में नारियल का तेल लगाते है उनके बाल चमकदार तो बनते ही हैं इसके अलावा बालों की जड़ों से प्रोटीन की कमी को दूर करने में भी नारियल कारगर होता है। नहाने के बाद नारियल तेल लगाते रहने से बालों में डेंड्रफ नहीं आते है।

रक्त शर्करा नियंत्रण

नारियल तेल का सेवन करने वाले लोगों की रक्त शर्करा ज्यादातर नियंत्रित रहती है क्योंकि नारियल तेल इंसुलिन के स्रावण में तेजी लाने में मददगार होता है। गार्वन इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल रिसर्च ने अपने शोध परिणामों से साबित किया है कि नारियल तेल में मीडियम चैन फैटी एसिड्स होते हैं जो टाइप 2 डायबिटीस को होने से रोकने में मददगार होते हैं। इस तरह के फैट कोशिकाओं में आसानी से अवशोषित हो जाते है और त्वरित तौर पर ऊर्जा में परिवर्तित हो जाते है, इस प्रक्रिया से इंसुलिन बनने की प्रक्रिया में तेजी आती है।

हृदय रोग निवारण

नारियल का तेल दिल के मरीजों के लिए ठीक नहीं क्योंकि इसमें सैचूरेटेड फैट होते हैं, ये सरासर गलत है। वास्तव में हृदय की सेहत के लिए नारियल तेल अति उत्तम साबित हुआ है। नारियल तेल में करीब 50% लौरिक अम्ल पाए जाते हैं जो कॉलेस्ट्रॉल और हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता हैं। नारियल तेल के सेवन से LDL के लेवल में कोई फर्क नहीं आता और ये तो हृदय की धमनियों में होने वाले नुकसान को ठीक करने में मददगार होता है।

त्वचा सुरक्षा

त्वचा की सुरक्षा और बेहतर रखरखाव के लिए नारियल तेल को जरूर उपयोग में लाया जाना चाहिए। नारियल तेल एक बेहतरीन मॉइस्चराइजर है और माना जाता है कि इसका प्रभाव किसी भी मिनरल ऑइल से बेहतर होता है और इसके इस्तेमाल से त्वचा पर किसी भी तरह साइड इफेट्क्स भी नहीं होते। नारियल तेल के इस्तेमाल से चेहरे पर झुर्रियां जल्द नहीं आती और त्वचा के अनेक रोगों जैसे सोरायसिस, डर्माटायटिस, एक्जिमा आदि को भी रोकने में मददगार होता है और इसी वजह से इसे अनेक कॉस्मेटिक प्रोड्क्ट्स के निर्माण में इस्तेमाल में लाया जाता है।

आर्थरायटिस में राहत

वर्जिन कोकोनट ओईल का इस्तेमाल कर जोड़ दर्द वाले हिस्सों में दिन में दो बार मालिश की जाए तो आर्थरायटिस में आराम मिलता है। जिन मरीजों को हल्के गर्म नारियल तेल से मालिश की गयी उन्हें आर्थरायटिस की समस्या में राहत मिली, साथ ही हाथ पैर में सूजन और जोड़ दर्द में आराम मिला।

वजन कम करना

नारियल तेल का इस्तेमाल कर आप अपना वजन भी कम कर सकते हैं। इसमें पाए जाने वाले मीडियम-चैन फैटी एसिड्स वजन कम करने में मददगार होते हैं। ये फैटी एसिड्स आसानी से पच जाते हैं और थॉयरायड और एंडोक्राइन सिस्टम को सुचारु करने में मदद भी करते हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास

हमारे शरीर की रोगप्रतिरोधकता के लिए नारियल तेल बेहद खास है, बशर्ते इसे भोजन बनाने के लिए इस्तमाल में लिया जाए। नारियल तेल हमारा पाचन सुचारु करता तो है ही इसके अलावा पेट से जुड़े अनेक विकारों को सम्हालने में मदद करता है। नारियल तेल शरीर के भीतर विटामिन, मिनरल्स और अनेक एमीनो एसिड्स को अवशोषित कर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मददगार होता है।

किडनी इंफेक्शन और यकृत सुरक्षा

नारियल के तेल में पाए जाने वाले मीडियम चैन फैटी एसिड्स संक्रामक बैक्टीरिया पर चढ़ी हुई लिपिड कोटिंग को तहस नहस कर बैक्टीरिया को मार गिराने में मदद करते हैं, जिन्हें पेशाब नली में संक्रमण यानि यूरिनरी ट्रेक्ट इन्फेक्शन की शिकायत हो या किडनी में किसी तरह के संक्रमण की शिकायत, नारियल तेल का सेवन बेहद हितकर साबित होता है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.