मनरेगा मज़दूर क्यों लौटाना चाहते हैं पीएम मोदी को 5 रुपये?

मनरेगा मज़दूर क्यों लौटाना चाहते हैं पीएम मोदी को 5 रुपये?

लातेहर (भाषा)। मनरेगा के तहत हर दिन मिलने वाली मज़दूरी में महज़ 5 रुपये का इजाफा किए जाने से नाराज़ झारखंड के सैकड़ों मज़दूरों ने इसे लौटाने का फ़ैसला लिया है। नाराज मजदूर लिफाफे में 5-5 रुपये का नोट भरकर पीएम मोदी को भेजने की तैयारी कर रहे हैं।

पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी

मज़दूरों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखकर पूछा है कि राज्य में सूखा पड़ा है ऐसे में ये 5 रुपये उनके किस काम आएंगे। 

5 रुपये में क्या होगा ?

केंद्र सरकार ने इस साल झारखंड में मनरेगा के तहत मिलने वाली मज़दूरी में हर दिन 5 रुपये का इज़ाफ़ा कर 162 से 167 रुपया किया है। नाराज़ लोगों का कहना है कि यहां मनरेगा से अलग काम करने वालों को हर दिन का 212 रुपये मिलता है ऐसे में उनके साथ ये कैसा न्याय है।

100 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी लिखी थी पीएम को चिट्ठी

इससे पहले सौ से अधिक सामाजिक कार्यकर्ताओं, अर्थशास्त्रियों और समाजशास्त्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कई राज्यों में उत्पन्न सूखे की स्थिति पर कदम उठाने के साथ ही पारंपरिक राहत उपाय एवं राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून को अक्षरश: लागू करने का आग्रह किया था।

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top