मोदी ने जलवायु परिवर्तन पर भारतीय नेतृत्व को प्रदर्शित किया: अमेरिका

मोदी ने जलवायु परिवर्तन पर भारतीय नेतृत्व को प्रदर्शित किया: अमेरिकाgaonconnection

वाशिंगटन (भाषा)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ अहम बैठक से पहले अमेरिका ने कहा है कि मोदी ने भारत में मुश्किल राजनीतिक माहौल के बावजूद जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर देश के नेतृत्व को दर्शाया है।

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने सोमवार को कहा कि मोदी के साथ मंगलवार को ‘ओवल ऑफिस' बैठक के दौरान ओबामा के राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ-साथ आर्थिक संबंधों पर भी चर्चा करने की संभावना है। अर्नेस्ट ने हालांकि बैठक के संभावित परिणाम के बारे में नहीं बताया। उन्होंने कहा, ‘‘बातचीत के संभावित नतीजों के बारे में कहने के लिए मेरे पास फिलहाल कुछ नहीं है। निश्चित तौर पर इस बारे में हम कल और बेहतर बातचीत कर सकते हैं।मैं आपको बता सकता हूं कि कुछ चीजें हैं जिनके बारे में राष्ट्रपति ओबामा प्रधानमंत्री मोदी से बात करना चाहते हैं।'' प्रवक्ता ने बताया, ‘‘निश्चित तौर पर सबसे पहली बात तो अंतरराष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन समझौते को पूरा करने में भारत की महती भूमिका के बारे में है। इस बारे में हमने पिछले साल दिसंबर में बात की थी कि इस समझौते की ऐसी प्रतिबद्धताओं को लेकर भारत की भूमिका अहम होने वाली है जो यह सुनिश्चित करेंगी कि दुनिया इस चुनौती का सामना करने के लिए एकजुट हो।''      

उन्होंने कहा कि ओबामा को मोदी और उन वार्ताओं में शामिल शेष भारतीय प्रतिनिधिमंडल से इस बारे में बात करने का अवसर मिला कि भारत की भूमिका क्या हो सकती है और भारत क्या प्रतिबद्धताएं कर सकता है।

अर्नेस्ट ने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर यह ऐसी स्थिति है जब प्रधानमंत्री मोदी ने देश में मुश्किल राजनीतिक माहौल के बावजूद अपनी जबर्दस्त नेतृत्व क्षमता प्रदर्शित की है। उन्होंने अपने देश को ऐसे मानकों के प्रति प्रतिबद्ध बनाया है जो न केवल भारतीय जनता बल्कि बाकी दुनिया के लिए भी बेहतर होंगे।'' उन्होंने कहा, ‘‘जाहिर तौर पर, जिस तरह से प्रधानमंत्री मोदी ने इस मामले पर काम किया है, उसे लेकर राष्ट्रपति ओबामा के मन मंझ उनके लिए बहुत सम्मान है और मैं आशा करता हूं कि जलवायु परिवर्तन के एजेंडा में बेहतरी के लिए अमेरिका और भारत और क्या कर सकते हैं, इस बारे में उनके बीच चर्चा होगी।''

उन्होंने दोनों नेताओं के बीच होने वाली सातवीं बैठक के बारे में बात करते हुए कहा, ‘‘मैं उम्मीद करता हूं कि अमेरिका और भारत हम दोनों देशें के बीच आर्थिक संबंधों को लेकर चर्चा करेंगे। दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंध बेहद महत्वपूर्ण हैं। यह ऐसा संबंध है जो हमारे दोनों देशों के नागरिकों के लिए फायदेमंद है। इसलिए मुझे उम्मीद है कि आर्थिक मुद्दों पर भी चर्चा होगी।'' उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े भी कुछ मुद्दे होंगे। हाल के वर्षों में हमने अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा अधिकारियों और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा अधिकारियों के बीच जबर्दस्त और करीबी सहयोग देखा है।''

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top