Top

नाराें से वाेट नहीं मिलता: मुलायम सिंह यादव

Vinay GuptaVinay Gupta   22 Jan 2016 5:30 AM GMT

नाराें से वाेट नहीं मिलता: मुलायम सिंह यादवगाँव कनेक्शन, जनेश्वर मिश्र मुलायन सिंह यादव

लखनऊ। मैं अखिलेश को जनेश्‍वर मिश्र के पास भेजता कि उनसे मिलो और कुछ सीखो, उसने किया भी। यह बातें सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने जनेश्वर मिश्र (छोटे लोहिया) की पुण्यतिथि पर कही।

लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क में शुक्रवार 22 जनवरी को जनेश्वर मिश्र की पुण्यतिथि पर मुलायम सिंह यादव ने उनको श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर उन्होंने ने कहा जनेश्‍वर मिश्र लोहिया सामाजवाद के सबसे बड़े चिंतक थे। उन्हें मिठाई खाने का बहुत शौक था। उन्‍होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं समेत मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को नसीहत देते हुए बोले कि अगर बड़ा नेता बनना है तो दूसरे राज्‍यों का भी दौरा करना होगा। बिहार, मध्‍यप्रदेश और उत्‍तराखंड में जाकर रैली करो। अब तो इतनी सुविधाएं है हेलिकाप्‍टर है आने जाने के लिए। सपा को लोग क्षेत्रीय पार्टी समझते है। कार्यकर्ताओ से भी कहूंगा कि नाराें से जोश मिलता है लेकिन, वाेट नहीं। जब तक बूथ लेवल तक काम नहीं करोगे तो वोट नहीं मिलेंगे। बीजेपी ने केंद्र में सरकार बना ली कभी किसी ने सोचा भी नहीं था। केवल अटलजी ही एक बड़े नेता थे।

कार्यक्रम में सीएम अखिलेश यादव ने कहा मेरा पहला चुनाव नामांकन जनेश्‍वर मिश्रा के द्वारा हुआ। जिसमे उन्हें क्रांतिरथ चलाने का मौका भी मिला जिसे उन्‍होंने रवाना किया था। उन्होंने बताया श्री मिश्र किसानों, गाँव-गरीब को हमेशा याद रखने नसीहत देते थे और कहते थे कि आगे बढ़ने के लिए समझौता और त्‍याग दोनों करना होगा। उन्ही की याद में यह पार्क भी बनाया गया है। उन्होंने कहा आज दूसरी विचारधारा के लोग हमारे बनाए इस पार्क में आक्‍सीजन लेने आते है। विरोधियों के पास कोई बात नहीं है, जब चुनाव आएगा तो विरोधी कुछ भी कहेंगे लेकिन, हमे अपना काम करना होगा। हालांकि विपक्ष विकास को लेकर कुछ नहीं कह सकता है। उन्होंने कहा कि सपा सरकार ने किसानों के पैदावार का सही दाम, मंडी, बाजार, दूध उत्पादन को बढ़ावा समेंत कई काम किए है। सीएम ने आगे बताया कि यूपी में एक्‍सप्रेस-वे, मेट्रो, साइकिल ट्रैक, सोलर लाइट सब दे रहे। साथ ही यूपी में सड़क सबसे तेजी से बन रहीं है, जिन गांवों में बिजली की समस्या है उन गांवों में जल्द ही बिजली दी जाएगी।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.