Read latest updates about "नारी डायरी" - Page 2

  • दिव्यांग बेटी के लिए मां ने पाई-पाई जोड़ बनवाया शौचालय

    परसपुर चौबे (सोनभद्र)। किसी मां के लिए शायद इससे बड़ा दु:ख कुछ नहीं होगा कि उसकी बेटी घिसट-घिसट के चलती हो और उसे हर काम के लिए किसी और का सहारा लेना पड़ता हो। शौच के लिए भी उसे अपने मां के कंधे पर बैठ कर खेतों में जाना पड़ता हो। अपनी बेटी के इस दु:ख को देखते हुए उस मां ने एक नजीर पेश की जो अपने आप...

  • 'मैंने अपना बाल विवाह रोका, अब दूसरों का नहीं होने दूंगी'

    लखनऊ। ये हैं हमारे आसपास के असली हीरो... इनमें से किसी ने बाल-विवाह रोका तो किसी ने ग्राम प्रधान बन अपनी पंचायत में शराबबंदी कराई। किसी ने बच्चों का स्कूल में दाखिला कराया तो किसी ने अपनी ग्राम पंचायत खुले से शौच मुक्त करवाई। लखनऊ के बौद्ध शोध संस्थान प्रेक्षागृह में बुलंदशहर से आयी दुबली-पतली...

  • आपने महिला डॉक्टर, इंजीनियर के बारे में सुना होगा, एक हैंडपंप मैकेनिक से भी मिलिए

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कचित्रकूट। जब नल मैकेनिक का नाम सुनते हैं तो हमारे जेहन में तस्वीर एक पुरुष की उभर कर आती हैं, क्योंकि औजार हथौड़े चलाना पुरुषों का काम माना जाता है। इस धारणा को तोड़ते हुए चित्रकूट जिले की शिवकलिया देवी ने आज से 20 वर्ष पहले जब अपने हाथों में औजार और हथौड़े उठाये तो लोग हंसते थे...

  • इन महिलाओं के हाथ का हुनर ऐसा कि बोल उठती हैं लकड़ियां

    रामगढ़ (झारखंड)। झारखंड की आदिवासी महिलाएं अपने हाथ के हुनर से लकड़ियों को आकार देकर सजावट के कई सामान बना रहीं हैं। जो इनकी आजीविका का एक माध्यम बन गया है। लकड़ी से नेमप्लेट बना रही गौसिया खातून बताती हैं, 'सोचा नहीं था कि हम भी लकड़ियों से इतना अच्छा सामान बना लेंगे। ट्रेनिंग लेने के बाद पांच-छह...

Share it
Top