सताई गई महिलाएं अब नागरिक पत्रकार बनकर उठाएंगी हजारों महिलाओं की आवाज

Neetu SinghNeetu Singh   7 May 2017 6:28 PM GMT

सताई गई महिलाएं अब नागरिक पत्रकार बनकर उठाएंगी हजारों महिलाओं की आवाजपत्रकारिता की ट्रेनिंग क्लास में महिला सामाख्या से जुड़ी महिलाएं।

औरैया। अपने गाँव की आवाज बनने के लिए गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ने महिला समाख्या से जुड़ी महिलाओं के साथ सदर ब्लाक में एक वर्कशाप की। वर्कशाप में महिलाओं को जर्नलिज्म की क्लास दी गई और बताया गया कि खबर कैसे लिखनी है। महिलाओं ने संकल्प लिया और कहा कि वह अब अपने क्षेत्र की समस्याओं को उजागर करेंगी।

शहर के बीचो-बीच स्थित ब्लाक सभागार में गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के अधिकारियों द्वारा महिला समाख्या की महिलाओं को एक जर्नलिज्म की क्लास दी गई। लखनऊ से आए फाउंडेशन के अरविंद शुक्ला ने बताया, “गाँव कनेक्शन अखबार ने जितनी जल्दी लोकप्रियता पाई है। इतना शायद अभी तक किसी ने नहीं पाई है।

ये भी पढ़ें - बाल विवाह रोकना जीवन का मक़सद : मंजू देवी

अखगार गाँव के उन लोगों की आवाज बन रहा है जो उपेक्षित हैं और जिनकी कोई सुनता नहीं है। फाउंडेशन महिलाओं को सशक्त बनाने में अपनी वर्कशाप प्रदेश के 55 जिलों में कर रहा है। गाँव कनेक्शन एक ऐसा मंच है जिससे जुड़कर महिलाएं अपनी आवाज बुलंद कर सकती हैं।” अरविंद शक्ला ने महिलाओं को खबर लिखने के तरीके बताए। सभी महिलाएं जर्नलिज्म की क्लास में खबर लिखने के लिए उत्साहित दिखीं।

प्रशिक्षण के बाद अपनी ख़बर लिखती महिला।

गाँव कनेक्शन का वीडियो और गाना सुन महिलाओं को ऐसा लगा कि उनमें एक नया जोश और स्फूर्ति आ गई हो। वहीं फाउंडेशन से जुड़ी नीतू सिंह ने भी महिलाओं को उनसे जुड़ी योजनाओं के बारे में जानकारी दी। इसके अलावा उनके बीच से ऐसी कहानियां और स्टोरी निकालीं जो अखबारों में छपने से छूट जाती हैं। जर्नलिज्म की क्लास में महिलाओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। गाँव कनेक्शन के डिस्ट्रिक को-आर्डिनेटर ने महिला समाख्या की महिलाओं को धन्यवाद दिया।

महिला कार्यकत्रियों ने कहा, बनना चाहती हूं अच्छी फ़ोटोग्राफर

वाराणसी। गाँव कनेक्शन की पत्रकारिता वर्कशॉप में महिला समाख्या वाराणसी की कार्यकत्रियों को समाचार लिखने की ट्रेनिंग दी गई। इस कार्यशाला में जिले के छह ब्लॉकों की समन्वयक महिलाओं के अलावा महिला सामाख्या जिला प्रतिनिधि रंजना तिवारी ने भी हिस्सा लिया।

ये भी पढ़ें - अब महिला प्रधान गाँव के विकास में निभा रहीं अग्रणी भूमिका

महिला समाख्या कार्यकत्री रचना को फोटोग्राफी सेशन बेहद पसंद आया। रचना ने बताया, “फोटो खींचते वक्त मोबाइल को किस तरह पकड़ना चाहिए और कैसे व्यक्तिगत फोटो और समाचार के लिए प्रयोग होने वाली फोटो में अंतर होता है, यह बातें जानने को मिलीं। आगे चलकर अच्छी फोटोग्राफर बनना चाहती हूं।

महिलाओं को प्रशिक्षण देतीं गांव कनेक्शन फाउंडेशन की नीतू सिंह।

कार्यशाला को संस्था की महिलाओं के लिए फायदेमंद बताते हुए वाराणसी की महिला समाख्या प्रमुख रंजना तिवारी ने बताया, “समाचार लिखने के तौर-तरीके और कैसे अच्छी फोटो खींचकर एक बड़ी तस्वीर समाज के सामने लाई जा सकती है, इस बारे में जानकारी मिली जो कि बेहद रोचक और नया अनुभव था।” गाँव कनेक्शन द्वारा आयोजित की गई एकदिवसीय पत्रकारिता कार्यशाला में महिला समाख्या की कार्यकत्रियों को वीडियो गाइड के माध्यम खबर लिखने की जानकारी दी गई।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top