इस औरत की कहानी आप मत पढ़िएगा 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   8 Feb 2018 6:01 PM GMT

इस औरत की कहानी आप मत पढ़िएगा तीन तलाक  फाइल फोटो

लखनऊ। मुझे रात में ही पति का घर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। ऐसा लगा कि जिन्दगी खत्म हो गई... उसके बाद का संघर्ष काफी कड़ा था। ये कहना है सोफिया का। तलाक...तलाक...तलाक... के दर्दभेदी आवाज सुनकर जब सोफिया घर से निकली तो उसकी गोद में 40 दिन का बच्चा था।

सोफिया अहमद (24 वर्ष) ने वाणिज्य से स्नातक की पढ़ाई कर रखी है। तीन तलाक पर अकेले दम लड़ाई लड़ने से हुई मशहूर सोफिया को सरकार ने उत्तर प्रदेश राज्य अल्पसंख्यक आयोग का सदस्य बनाया गया। सोफिया अहमद का सफर संघर्ष की मिसाल है।

ये भी पढ़ें- 500 बेटियों वाली इस मां को क्या आप जानते हैं ?

लोग सोचते हैं कि तीन तलाक कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन उन्हें नहीं मालूम कि महिला को कितनी कठिनाइयां पेश आती हैं, जब गुजारा भत्ता मांगने, बच्चे की देखरेख का जिम्मा ऐसी ही अन्य बातों के लिए एक महिला को संघर्ष करना पड़ता है। सोफिया ने कहा कि कोई मदद नहीं मिलती और अदालत का दरवाजा खटखटाना पड़ता है।

ये भी पढ़ें- नौ फरवरी से दुधवा में शुरू होने वाले बर्ड फेस्टिवल में देश-विदेश से शामिल होंगे सैकड़ों विशेषज्ञ 

ये भी पढ़ें- पेंशन के लिए विधवाएं इस तरह कर सकती हैं ऑनलाइन आवेदन

सोफिया पुरानी यादों में खो गई, फिर याद करते हुए बताती हैं कि जब वह तलाक के बाद संघर्ष कर रही थीं तो तीन तलाक के मुद्दे पर भाजपा के नजरिए से प्रभावित हुई और दिसंबर 2016 में पार्टी में शामिल हो गई। सोफिया ने कहा कि वह खुद को किस्मत वाला मानती हैं और महसूस करती हैं कि उन्हें एक मंच मिला है, जिसके जरिए वह इस तरह की कठिनाइयां झेल रही महिलाओं को प्रोत्साहित करेंगी।

सोफिया का निकाह एक राजनीतिक परिवार में हुआ था।

ये भी पढ़ें- ऑटोमेटिक मौसम केंद्र बचाएंगे किसानों की फसल, मौसम के हिसाब से देंगे कृषि सलाह

वह कहती हैं कि उनकी आवाज अन्य पीड़िताओं की आवाज बनेगी। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने आत्मसम्मान के लिए एक महिला के संघर्ष को पहचाना। इससे यह भी साबित होता है कि भाजपा असल मुद्दों पर संघर्ष कर रहे लोगों को मौका देने में भरोसा करती है। सोफिया ने बताया कि वह निजी तौर पर महिलाओं के साथ काम करती रही हैं और जब वह अदालत में मुकदमा लड़ रही थीं, तब उन्हें महिलाओं का पूरा समर्थन था।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफ करते हुए सोफिया ने कहा कि मोदी ने जो वायदा किया, उसे पूरा किया। उन्होंने मुस्लिम महिलाओं के लिए उम्मीद की नयी किरण जगाई है। उत्तर प्रदेश सरकार ने सोफिया को कल ही आयोग का सदस्य नियुक्त किया है।

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top