पंद्रह साल में हो रही थी शादी, अब दूसरों का बाल विवाह रोकने में कर रहीं मदद

इस लड़की ने न सिर्फ अपना बाल विवाह रोका, बल्कि आज खुद कानून की पढ़ाई कर रहीं हैं और दूसरी लड़कियों का बाल विवाह भी रोक रहीं हैं।

Divendra SinghDivendra Singh   23 Nov 2018 8:34 AM GMT

पंद्रह साल में हो रही थी शादी, अब दूसरों का बाल विवाह रोकने में कर रहीं मदद

इकौना (श्रावस्ती)। यूपी का वो ज़िला जहां ज्यादातर बच्चियों का छोटी से उम्र में बाल विवाह कर दिया जाता है, वहीं पर एक लड़की न सिर्फ अपना बाल विवाह रोका, बल्कि आज खुद कानून की पढ़ाई कर रहीं हैं और दूसरी लड़कियों का बाल विवाह भी रोक रहीं हैं।


श्रावस्ती ज़िले के इकौना ब्लॉक के इतवारिया गाँव की कनकलता मिश्रा (25 वर्ष) आज अपने परिवार और गांव का गौरव बनी हैं। गैर सरकारी संस्था पंचशील से जुड़ कर कानून की पढ़ाई करते हुए गाँव की महिलाओं और किशोरियों को शिक्षित कर रही हैं।

ये भी पढ़ें : छोटी उम्र में बड़ी कोशिश : बच्चियों ने ख़ुद रोका बाल विवाह, पकड़ी पढ़ाई की राह

कनकलता बताती हैं, "मेरी बहन की शादी में बहुत कम उम्र हो गई थी, इसलिए मुझे पता है क्या-क्या परेशानिया होती हैं। मैं जब 15 साल की थी और दसवीं में पढ़ रही थी तो मेरी शादी की बात चलने लगी मेरे मना करने पर भी वो लोग नहीं माने तो मैंने अपने जीजा को बताया। उनके कहने पर उन्होंने मेरी बात मानी और मेरी शादी रुक गई।"


देश के कई इलाकों में आज भी बाल विवाह प्रचलित है, खासकर लड़कियों की शादी कम उम्र में ही कर दी जाती है। वर्ष 2016 के नैशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-4 के मुताबिक देश में तकरीबन 27 फीसदी लड़कियों की शादी 18 साल की उम्र के पहले हो जाती है। जबकि वर्ष 2005 के नैशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में यह आंकड़ा तकरीबन 47 फीसदी था। यानि सिर्फ दस वर्षों में 18 साल से कम उम्र वाली लड़कियों की शादी में 20 फीसदी की गिरावट आई है। बाल विवाह में ये गिरावट भले ही दर्ज की गयी हो लेकिन अभी भी ये गम्भीर चिंता का विषय बना हुआ है।

ये भी पढ़ें : यहां नारी अदालत में सुलझाए जाते हैं बलात्कार, बाल विवाह जैसे मामले


आज कनकलता यूनिसेफ के प्रोजेक्ट स्मार्ट बेटियों में से एक स्मार्ट बेटी हैं और स्मार्ट फ़ोन के जरिए लोगों की फ़िल्म बनाती हैं, लेकिन इसमें भी उन्हें लोगों को बहुत समझाना पड़ता है। वो बताती हैं, "हम ऐसे लोगों को ढूंढते हैं जिन्होंने खुद बाल विवाह होने से रोका हो या फिर दूसरों का बाल विवाह होने से रोकने में उनकी मदद की हो। लेकिन ये सबसे मुश्किल काम है लोगों को ढूंढना और उनसे सच का पता लगाना।"

शुरू में जब कनक ने गांव से निकलना शुरू किया तो लोगों के ताने सुनने को मिले कि लड़की होकर घूमती रहती है। लेकिन अब लोगों को भी समझ मे आ गया है कि कनक चुप रहकर घर बैठने वालों में से नहीं है।

"पहले तो घर वाले भी मना करते थे और आसपास के लोगों को तो बहाना मिल जाता, लोग तरह-तरह की बातें करते, लेकिन अब लोग समझ रहे हैं, "कनक ने कहा।

ये भी पढ़ें : कम उम्र में मां बनने पर लगाम लगे तो सात साल तक 33,500 करोड़ रुपए की बचत हो सकती है

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top