सूकर पालन व्यवसाय से खुद के साथ-साथ अन्य महिलाओं को भी बना रही आत्मनिर्भर  

Diti BajpaiDiti Bajpai   21 April 2017 12:28 PM GMT

सूकर पालन व्यवसाय से खुद के साथ-साथ अन्य महिलाओं को भी बना रही आत्मनिर्भर  अनिता सिंह ने सामाजिक बंदिशों को तोड़कर सूकर पालन व्यवसाय शुरू किया।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

बरेली। चालीस वर्षीय अनिता सिंह ने सामाजिक बंदिशों को तोड़कर सूकर पालन व्यवसाय शुरू किया। इस व्यवसाय से वो खुद तो लाखों की कमाई कर रही हैं साथ ही अपने आस-पास की कई महिलाओं को इसकी ट्रेनिंग भी दे रही हैं।

बरेली जिले से लगभग 25 किमी दूर बदायूं रोड पर कुलहाडियां गाँव है जहां पर अनिता ने एक एकड़ में सूकर फार्म बनाया है। 19वीं पशुधन गणना 2012 में देश में सूकरों की संख्या 10.29 मिलियन हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

अनिता फार्म पर आने वाले खर्च के बारे में बताती हैं, “पूरा मिलाकर इनके ऊपर करीब 15 से 20 हजार रुपए का खर्चा होता है। इनके बच्चे भी बिकते हैं जब ये ग्रो कर रहे होते हैं तो ब्रीडिंग के लिए भी बिकते हैं और मांस के लिए भी इनको बेचा जाता है। इनके बच्चे भी जल्दी और ज्यादा होते हैं।”

पिछले दो वर्षों से अनिता सूकर पालन तो कर ही रही हैं साथ ही कई महिलाओं को भी इस व्यवसाय से जोड़ भी रही हैं। “जैसे मैं आत्मनिर्भर हुई हूं वैसे ही और महिलाओं को भी आगे बढ़ाना चाहती हूं। कुछ महिलाओं को इसकी ट्रेनिंग दी है और वो एक दो सूकर पाल भी रही हैं।”

केवीके से मैंने एक हफ्ते की ट्रेनिंग ली और 40 सूकर से अपना फार्म शुरु किया। इस समय मेरे फार्म में छोटे-बड़े मिलाकर 250 सूकर हैं। फार्म का पूरा काम मैं ही देखती हूं, जिसके कारण आज मैं आत्मनिर्भर बन सकी हूं।
अनिता सिंह

लगातार बढ़ रहे सूकर पालन के व्यवसाय के बारे में बरेली के केवीके प्रधान वैज्ञानिक डॉ बी.पी. सिंह बताते हैं, “सूकर पालन कम खर्च में ज्यादा मुनाफा देने वाला व्यवसाय है इसलिए लोगों की तरफ इसका रुझान बढ़ रहा है। बरेली की अनिता ऐसी पहली महिला हैं, जिन्होंने इस व्यवसाय को शुरु किया है और उससे अच्छा मुनाफा कमा रही हैं। इसके साथ वो और महिलाओं को वो इसके लिए प्रेरित भी कर रही हैं।”

अगर आप सूकर पालन शुरु करना चाहें तो इस नंबर पर संपर्क कर सकते हैं-

टेलीफोन नंबर-0522-2741991-2741992

टोल फ्री नंबर- 18001805141

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top