गर्भावस्था में फॉलिक एसिड का ज्यादा सेवन बच्चे में एलर्जी बढ़ा सकता है

गर्भावस्था में फॉलिक एसिड का ज्यादा सेवन बच्चे में एलर्जी बढ़ा सकता हैगर्भावस्था में महिलाएं फोलिक एसिड का ज्यादा न करें सेवन।

मेलबर्न (भाषा) । गर्भावस्था के बाद के चरणों में फॉलिक एसिड के सेवन से इंट्रायूटेरिन ग्रोथ रेस्ट्रक्शिन (आईयूजीआर) से प्रभावित बच्चों में एलर्जी के खतरे बढ़ सकते हैं। एक नए अध्ययन में इन खतरों के प्रति आगाह किया गया है।

फॉलिक एसिड विटामिन बी का एक प्रकार है जो विकसित हो रहे भ्रूण के तंत्रिका ट्यूब में होने वाले दोषों को रोकता है। तंत्रिका ट्यूब गर्भावस्था के पहले महीने में विकसित हो जाता है। यही कारण है कि चिकित्सकीय पेशेवर आम तौर पर महिलाओं को गर्भावस्था की पहली तिमाही में फॉलिक एसिड पूरक लेने की सलाह देते हैं।

हालांकि गर्भावस्था के बाद के चरणों में इसके नियमित सेवन की जरुरत नहीं रह जाती और असल में यह बच्चों में एलर्जी के खतरे को बढ़ा सकता है।

ये भी पढ़ें: गर्भावस्था में रखें ध्यान,स्मॉग से हो सकता है नवजात अस्थमा का शिकार

ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ एडिलेड के अनुसंधानकर्ताओं ने भेड़ के तीन वर्गों से पैदा होने वाले मेमनों पर अध्ययन किया। इनमें सामान्य से छोटे प्लेसेंटा वाली मांओं, छोटे प्लेसेंटा वाली मांओं जिन्हें फोलिक एसिड का ज्यादा डोज गर्भावस्था के आखिरी महीने तक दिया गया है।

तीसरा समूह उन महिलाओं का है जिनका आहार और प्लेसेंटा दोनों सामान्य था।अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि ज्यादा डोज लेने वाली भेड़ों के बच्चों में एलर्जी का खतरा बढ जाता है। यह अध्ययन अमेरिकन जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी में प्रकाशित हुआ है।

ये भी पढ़ें:गर्भावस्था के दौरान मुलेठी खाना बच्चे के दिमाग के लिए नुकसानदेह

ये भी पढ़ें:गर्भावस्था में जरूरी है थायराइड की जांच

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top