आशा ज्योति केन्द्र की सहायता से बलात्कार पीड़िता को मिला न्याय

आशा ज्योति केन्द्र की सहायता से बलात्कार पीड़िता को मिला न्यायनाराज़ पति को मनाने जम्मू जा रही 18 वर्षीय के साथ कई बार हुआ बलात्कार

बसंत कुमार

लखनऊ। नाराज़ पति को मनाने जम्मू जा रही 18 वर्षीय रानी (बदला नाम) को नहीं पता था कि वो दिन उनकी जिंदगी का सबसे मनहूस दिन होगा क्योंकि उस दिन जिस पर उसने भरोसा किया उसी ने उसके जिस्म को कई बार बेच दिया।

आजमगढ़ की रहने वाली रानी की कम उम्र में ही शादी हो गई थी। शादी के कुछ महीनों बाद ही उनके पति ने छोड़ दिया था। रानी बताती हैं, ‘‘दहेज न मिलने के कारण मेरे पति ने मुझे मेरे घर पर छोड़ दिया था। वो दूसरी शादी करना चाहते थे। मैं उन्हें मनाने 15 जनवरी को जम्मू जा रही थी। पहली बार घर से बाहर निकली थी। इसके कारण कौन-सी ट्रेन कहां जाती है मुझे मालूम नहीं था और गलत ट्रेन में बैठ गयी थी।”

महिलाओं से संबन्धित सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

5 फरवरी को चारबाग़ रेलवे स्टेशन से हमें फोन आया तो हम स्टेशन पहुंच कर लड़की से मिले। लगातार तीन दिनों तक हमने इस मामले पर काम करते हुए मुख्य आरोपी आलम मोहमद को गिरफ्तारी कर लिया है। आरोपी राधा को भी पकड़ने की कोशिश जारी है। जल्द ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया
अर्चना सिंह, आशा ज्योति केंद्र से जुड़ी

उन्होंने बताया, “गलत ट्रेन पर बैठने के बाद राधा नाम की महिला मिली जो मुझे अपने घर ले गयी जिसके बाद मेरी ज़िन्दगी नरक बन गयी।” रानी आगे बताती हैं कि राधा ने मुझे एक फोन दिया जिस पर फोन आता तो उधर से लड़के अश्लील बात करते थे। मैं इसका विरोध की तो राधा चुप रहने को बोली। वो मुझे डराने लगी। कुछ दिन बाद चारबाग रेलवे स्टेशन पर स्थित कोमसोम होटल में काम करने वाला लड़का आलम मोहमद मुझे अपने साथ ले गया और रेप किया। मैंने विरोध किया तो फिर धमकी दी गई। आलम मोहमद बाराबंकी गाँव रशूलपुर में रहता है।

उसने बताया कि कि घटना के 10 दिन बाद राधा मुझे एक जगह घुमाने ले गयी जहां कुछ देर बाद तीन लड़के आये और मेरा बलात्कार किया। राधा यहां उन लोगों की मदद कर रही थी।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top