कामकाजी महिलाओं के लिए ऑफिस में और बेहतर माहौल की जरूरत: एचोसैम

कामकाजी महिलाओं के लिए ऑफिस में और बेहतर माहौल की जरूरत: एचोसैम

लखनऊ। उद्योग मण्डल 'एसोचैम' ने अंतरराष्ट्रीय मातृ दिवस पर महिला सशक्तीकरण के प्रति प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए कामकाजी माताओं के लिये दफ्तरों में सहयोगात्मक माहौल बनाने की जरूरत पर जोर दिया है।

एसोचैम के अध्यक्ष बी. के. गोयनका ने एक बयान में कहा ''दफ्तरों और कामकाज के अन्य स्थानों पर महिलाओं की बढ़ती भागीदारी के मद्देनजर एक अलग माहौल बनाने की जरूरत है। कामकाजी माताओं के लिये कार्यस्थलों के वातावरण को उनकी सुविधा के हिसाब से रूपान्तरित किये जाने और काम करने के घंटों में लचीलापन लाने की जरूरत है।''

यह भी पढ़ें- 'घोषणा पत्र में शामिल होने चाहिए थे ये महिला मुद्दे'

उन्होंने कहा कि अनेक कम्पनियों ने कामकाजी माताओं की जरूरतों के हिसाब से अपने संचालनात्मक ढांचे को ढालने का काम शुरू कर दिया है। गोयनका ने कहा, "उनकी नजर में स्वस्थ समाज के निर्माण में महिला सशक्तीकरण बेहद जरूरी है। लिहाजा कुल श्रम शक्ति में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाना भी आवश्यक है। पिछले पांच वर्षों के दौरान श्रम शक्ति में महिलाओं की भागीदारी का प्रतिशत 25 पर ही बना हुआ है।"

उन्होंने कहा, "इस भागीदारी को बढ़ाने के लिये उन्हें कार्यस्थल पर अनुकूल माहौल दिया जाना चाहिये, ताकि वे अपनी मातृत्व सम्बन्धी जिम्मेदारियों और दफ्तर के दयात्वि के बीच संतुलन बना सकें।

यह भी पढ़ें- बरेली में खुला अनोखा कामकाजी महिलाओं के लिए ऑफिस में और बेहतर माहौल की जरूरत: एचोसैम

पैडबैंक, जहां गरीब महिलाओं को मुफ्त में मिलता है सैनेटरी पैड

एसोचैम अध्यक्ष ने कहा कि उनका संगठन आर्थिक गतिविधियों में महिलाओं की भूमिका बढ़ाने के लिये अनेक कदम उठा रहा है। चैम्बर ने 'स्टार्ट—अप' योजना के तहत महिलाओं के क्षमता विकास तथा प्राविधिक प्रशक्षिण की दिशा में काम शुरू किए हैं।

(इनपुट भाषा से)

Share it
Top