Top

सूखे की सही स्थिति जानने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने वेबसाइट, ऐप शुरू किया

सूखे की सही स्थिति जानने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने वेबसाइट, ऐप शुरू किया

मुंबई (भाषा)। महाराष्ट्र सरकार ने बारिश, फसल की स्थिति और भूजल स्तर का आधुनिक प्रौद्योगिकी की मदद से विश्लेषण करने के लिए एक वेबसाइट और एक ऐप्लीकेशन शुरू किया है। पुनर्वास और राहत मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने शुक्रवार को यहां वेबसाइट 'महा मदत' के उद्घाटन के बाद कहा कि यह साइट राज्य के गांवों में सूखे जैसी स्थिति के सटीक विश्लेषण में मदद करेगी।

ये भी पढ़ें-40 फीसदी जिलों में सूखे के आसार, फिर भी सरकार ने अनाज उत्पादन का लक्ष्य बढ़ाया

राहत एवं पुनर्वास मंत्रालय ने महाराष्ट्र रिमोट सेंसिंग ऐप्लीकेशन सेंटर (एमआरएसएसी) की मदद से इस वेबसाइट का निर्माण कराया है। पाटिल ने कहा कि 2016 में केन्द्र सरकार ने किसी इलाके को सूखा घोषित करने के लिए मानदंड तय किये थे। इसके अनुसार किसी इलाके को सूखा तभी घोषित किया जाता है जब वहां लगातार 21 दिन तक बारिश नहीं हो। इसके अलावा मिट्टी की नमी, फसल की स्थिति, भूजल स्तर के अध्ययन पर विचार करने के बाद ही उस इलाके को सूखा क्षेत्र घोषित किया जाता है। पाटिल ने कहा "वेबसाइट पर जानकारियां एकत्र की जायेंगी और उनका विश्लेषण भी किया जायेगा।

ये भी पढ़ें- पानी की बर्बादी रोकने का जिम्मा सिर्फ किसान पर ही क्यों, अमीर भी पेश करें मिसाल

यह सूखा प्रभावित या सूखे जैसी स्थिति का सामना करने वाले किसी गांव को सूखाग्रस्त घोषित करने के लिए सटीक फैसला लेने में मदद करेगा।" उन्होंने कहा कि इसके परिणाम स्वरूप लोगों को तत्काल सहायता मिल पायेगी। सूखा से संबंधित केन्द्र के पहले मानदंड के अनुसार राज्य में 201 तालुकाओं में लगातार 21 दिन तक बारिश नहीं हुई। उन्होंने आगे बताया कि दूसरे मानदंड का अध्ययन किया जा रहा है और इसे जल्द पूरा कर लिया जायेगा तथा रिपोर्ट सोमवार को उपलब्ध होगी। इसके बाद जो तालुकाएं इन मानदंडों को पूरा करती हैं उन्हें सूखे जैसी स्थिति से प्रभावित घोषित कर दिया जायेगा और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए इन गांवों में विभन्नि उपाय किए जाऐंगे।


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.