नहीं मिला लापता विमान, सेटेलाइट तस्वीरों का लिया जाएगा सहारा

नहीं मिला लापता विमान, सेटेलाइट तस्वीरों का लिया जाएगा सहाराgaonconnection

चेन्नई (भाषा)। वायुसेना के लापता AN-32 विमान का पता लगाने के मुश्किल भरे खोज अभियान का आज तीसरा दिन हो गया लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। अब खोज एवं बचाव टीम इस विमान के किसी सुराग का पता लगाने के लिए सेटेलाइट तस्वीरें मांग रही है। उन्तीस लोगों को लेकर उड़े इस विमान का संपर्क बंगाल की खाड़ी में टूट गया था।

एक वरिष्ठ रक्षा अधिकारी ने कहा, ‘‘अब तक विमान का कोई संकेत नहीं मिला है।'' नौसेना और तटरक्षक बल के 19 जहाज, पनडुब्बियां, पी-81, सी-130 और डोनियर्स नामक आठ विमान चौबीसों घंटे इस लापता विमान को ढूढ़ने में जुटे हैं। यह मालवाहक विमान चेन्नई के समीप ताम्बरम वायुसेना अड्डे से 22 जुलाई को सुबह साढ़े आठ बजे उड़ान भरने के बाद लापता हो गया था।

समुद्र की गहराई तीन किमी से भी ज्यादा, बन रही बाधा

खोज अभियान में खराब मौसम बहुत बड़ी चुनौती बन रहा है। अधिकारी अब इस क्षेत्र की सेटलाइट तस्वीरें मांग रहे हैं।

पूर्वी नौसेना कमान के प्रमुख वाइस एडमिरल एचसीएस बिष्ट ने विशाखापट्टनम में कहा, ‘‘खोज अभियान चौबीसों घंटे चल रहा है और सारे संसाधन इस काम में लगा दिए गए हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘वहां पानी की गहराई 3,500 मीटर है और कुछ स्थान पर यह उससे भी अधिक गहरा है। गहराई बढ़ने के साथ चुनौतियां भी बढ़ती हैं।'' 

बिष्ट ने कहा कि मौसम खराब है और वर्षा भी हो रही है। विमान में सवार लोगों के परिवारों को नियमित आधार पर सूचना दी जा रही है।

विमान लापता होने की पुलिस रिपोर्ट दर्ज

इसी बीच वायुसेना के अधिकारियों ने एएन-32 विमान के लापता होने की औपचारिक शिकायत तमिलनाडु पुलिस में दर्ज करायी है।एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने आज कहा, ‘‘हमें शिकायत मिली है कि भारतीय वायुसेना का एएन-32 मालवाहक विमान लापता हो गया है।'' उन्होंने बताया, ‘‘सेलैयुर थाना में कल रात शिकायत दर्ज की गयी है।'' अधिकारी ने बताया, ‘‘शिकायत में कहा गया है कि एएन-32 में 29 व्यक्ति सवार थे और विमान लापता है। लापता लोगों में से एक तमिलनाडु के रहने वाले हैं।'' 

कानूनी पहलुओं को ध्यान में रख कर यह शिकायत दर्ज करायी गयी है। पिछले साल जब तटरक्षक का डोनियर विमान लापता हो गया था तब इसी तरह का एक मामला दर्ज किया गया था। बाद में तमिलनाडु के कुड्डालोर में सीजी डोनियर विमान का मलबा और इसके चालक दल के सदस्यों के शव मिले थे।

रुस में बने इस लापता विमान ने शुक्रवार को उड़ान भरने के 16 मिनट बाद आठ बजकर 16 मिनट पर अंतिम रेडियो संपर्क किया था। अधिकारियों के माथे पर शिकन बढ़ती जा रही है क्योंकि समय बीतता जा रहा है और खोज अभियान में अब तक कोई सकारात्मक संकेत नहीं मिला है। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने निजी रुप से खोज एवं बचाव अभियान का निरीक्षण करने के लिए कल हवाई सर्वेक्षण किया।

Tags:    India 
Share it
Top