नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश

नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाशगाँव कनेक्शन

मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के थाना गंगानगर क्षेत्र में पुलिस कंप्यूटर ऑपरेटर परीक्षा में पुलिस ने दो युवतियों समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर ऑनलाइन पेपर साल्व करने वाले गिरोह का खुलासा करने का दावा किया है। गिरफ्तार अभियुक्तों को आज अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

गंगानगर थाना प्रभारी अनंगपाल सिंह ने आज बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों के नाम मेरठ निवासी पूजा (22 वर्ष), प्रियंका यादव (26 वर्ष), अर्पित कुमार (22 वर्ष) और अनुज कुमार (27 वर्ष) हैं। इनके कब्जे से लैपटॉप, चार मोबाइल और पेपर बरामद किया गया है। 

थाना प्रभारी के अनुसार उत्तर प्रदेश में पहली बार पुलिस की कंप्यूटर ऑपरेटर की भर्ती के लिए गुरुवार को ऑनलाइन परीक्षा का आयोजन किया गया था। मेरठ में जेपी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग, ट्रांसलेम, आइआइएमटी और एफआइटी को परीक्षा केंद्र बनाया गया था। 

क्राइम ब्रांच और गंगानगर थाना पुलिस की संयुक्त टीम ने एक मुखबिर की सूचना पर जेपी इंस्टीट्यूट के पास से दो युवतियों और दो युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो आरोपियों ने बताया कि उनके गिरोह का सरगना विक्रांत है। विक्रांत ने वाट्सऐप ग्रुप बनाया है। पेपर आउट कराने के लिए उसने प्रत्येक अभ्यर्थी से एक लाख रुपए लिया है।

परीक्षा केंद्र में बैठे अभ्यर्थी कंप्यूटर स्क्रीन पर ऑनलाइन सवाल आते ही उसका मोबाइल से फोटो खींच कर बाहर खड़े गिरोह के सदस्यों को भेज देते थे। बाहर खड़े सदस्य लैपटाॅप पर नेट से उस सवाल का जवाब सर्च कर उसे सीधे विक्रांत को भेज रहे थे। विक्रांत उसे ग्रुप में भेज रहा था। थाना प्रभारी के अनुसार इस गिरोह के सदस्य कंप्यूटर ऑपरेटर ग्रेड ‘ए’ की भर्ती के अलावा भी कई भर्ती में पेपर साल्व करा चुका है। पकड़े गए अभियुक्तों से पूछताछ कर गिरोह के शेष सदस्यों की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top