नलकूपों में लगवाएं स्टेबलाइज़र

नलकूपों में लगवाएं स्टेबलाइज़रगाँव कनेक्शन

रायबरेली । डार्क ज़ोन में ज़रूर नलकूपों पर नियंत्रण किया जाए लेकिन जिन जगह किसान नलकूपों पर आधरित हैं और पानी सिर्फ इसलिए नहीं मिल पाता क्योंकि वोल्टेज नियमित नहीं रहता। इन नलकूपों को अधिशाषी अभियंताओं की मदद से चिन्हित कर उनमें स्टेबलाइज़र की व्यवस्था तुरंत कराई जाए।

जनपद के कई क्षेत्रों में सिंचाई के लिए लगे सरकारी नलकूप कम वोल्टेज के चलते सही से काम नहीं कर पा रहे थे। ऐसे में जि़लाधिकारी सूर्यपाल गंगवार ने एक तरकीब सोची, उन्होंने कुछ नलकूपों में स्टेबलाइज़र लगवाकर देखा तो पाया कि वे अच्छी तरह चलने लगे हैं।

इसके बाद जि़लाधिकारी ने कृषि विभाग से ज्यादा पंपों में लगवाने के लिए इस स्टेबलाइज़र का बजट पास करवा लिया और काम शुरू है।

इस बारे में जि़लाधिकारी सूर्यपाल बताते हैं, ''गाँवों में नलकूपों के सुधार के लिए हम जिले में खराब पड़े नलकूपों में अल्ट्रा पॉवर स्टेबलाइज़र लगवा रहे हैं। इस उपकरण की मदद से नलकूपों में वोलटेज उपर-नीचे होने से पानी की कम आपूर्ति नहीं होगी। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर हमने इसका प्रयोग दो-तीन गाँवों में सफलतापूर्वक किया है।"

एक बार स्टेबलाइज़र लगाने से वह पांच साल तक चलता है। रायबरेली जि़ले के नलकूप अधिशाषी अभियंता मनोज कुमार बताते हैं, ''एक नलकूप चलाने में 380 वोल्ट बिजली की ज़रूरत होती है। स्टेब्लाइज़र की मदद से इतनी बिजली बड़े आराम से मिल जाती है। साथ ही इसकी मदद से अब हम 20 एकड़ क्षेत्र की जगह 50 से 60 एकड़ कृषिक्षेत्र तक पानी पहुंचाने में सक्षम हो सके हैं।"  एक स्टेब्लाइज़र की कीमत 70 से 75 हज़ार होती है।

गाँव कनेक्शन नेटवर्क

Tags:    India 
Share it
Top