पाकिस्तान में चीनी सेना की तैनाती बढ़ाएगी भारत की मुश्किलें

पाकिस्तान में चीनी सेना की तैनाती बढ़ाएगी भारत की मुश्किलेंGaon Connection

नई दिल्ली। चीनी सेना अब पाकिस्तान में तैनात होने जा रही है। ऐसा 3000 किलोमीटर लंबे पाकिस्तान-चीन इकोनॉमिक कॉरिडोर की सुरक्षा के लिए किया जा रहा है। ये कॉरिडोर बलूचिस्तान के ग्वादर पोर्ट को शिनजियांग से जोड़ता है।

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान ने हाइवे की सुरक्षा के लिए तीन स्वतंत्र इन्फैंट्री ब्रिगेड और दो आर्टिलरी रेजीमेंट की तैनाती की है। एक ब्रिगेड में कम से कम 3 रेजीमेंट होती है और हर रेजीमेंट में 1000 सैनिक होते हैं। चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर यानी सीपीईसी पाकिस्तान के बलूचिस्तान से मकरान कोस्ट होते हुए उत्तर की ओर लाहौर और इस्लामाबाद को जोड़ता है। ये पीओके के गिलगिट-बाल्टिस्तान होते हुए काराकोरम हाइवे को जोड़ेगा।

यह चीन के काशगर में शिनजियांग पर जाकर खत्म होगा। हालांकि चीन की पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) को हाइवे की सुरक्षा के लिए लगाया जा रहा है, लेकिन उसकी पाकिस्तान में उपस्थिति भारत के लिए चिंता का सबब है। नई दिल्ली की ओर से इससे पहले गिलगिट पाकिस्तान में चीन की मौजूदगी को लेकर आपत्ति जताई जा चुकी है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, यह इस बात की ओर इशारा है कि पाकिस्तान इस रीजन में अपनी पैठ बढ़ाकर इसे अपना पांचवां प्रांत बनाना चाह रहा है। पाकिस्तान को इस कदम से वहां के स्थानीय लोगों के विरोध का सामना करना पड़ सकता है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top