देशभर में मकर संक्रांति की धूम तस्वीरों में देखें

देशभर में मकर संक्रांति की धूम तस्वीरों में देखेंइलाहाबाद में संगम में स्नान करता एक साधु

कोलकाता। देशभर में खिचड़ी पर्व, लोहड़ी व मकर संक्रांति का पर्व धूमधाम और उत्साह व उमंग से मनाया जा रहा है। धार्मिक पंचांग और जानकारों के अनुसार, मकर संक्रांति का पर्व रविवार और सोमवार दो दिन है। तस्वीरों में देखें मकर संक्रांति का उत्साह।

देशभर में मकर संक्रांति विभिन्न रूपों में मनाई जाती है। पंजाब में इसे लोहड़ी के रूप में एक दिन पहले मनाए जाने की परंपरा है, जबकि उत्तर प्रदेश और बिहार सहित विभिन्न राज्यों में इसे खिचड़ी पर्व के रूप में मनाया जाता है।

मान्यता है कि इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है और उत्तरायण हो जाता है। उत्तरायण को सकारात्मकता का प्रतीक माना गया है। मकर संक्रांति पर सूर्य की राशि में हुआ परिवर्तन अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर होने का द्योतक है। प्रकाश अधिक होने से प्राणियों की चेतना एवं कार्यशक्ति में वृद्धि होती है, इसलिए पूरे भारत में इस अवसर पर लोग विविध रूपों में सूर्य की उपासना करते हैं।

गंगासागर में मकर संक्राति में स्नान करने जाती महिलाएं

खिचड़ी पर्व सांस्कृतिक एकता का प्रतीक : योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खिचड़ी पर्व, लोहड़ी व मकर संक्रांति पर प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने अपने बधाई संदेश में कहा कि ये पर्व हमारे देश की समृद्ध विरासत एवं सांस्कृतिक एकता का प्रतीक हैं।

अगरतला में रंगोली बनाती महिलाएं

गंगासागर मेले में श्रद्धालुओं की भारी भीड़

मकर संक्रांति के अवसर पर रविवार को पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने गंगा में उस जगह डुबकी लगाई जहां नदी बंगाल की खाड़ी में गिरती है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी कड़ी ठंड के बावजूद सुबह से ही वार्षिक गंगासागर मेले में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखने को मिली।

कोलकाता से लगभग 150 किलोमीटर दूर दक्षिण 24 परगना जिले में गंगासागर द्वीप हिंदुओं द्वारा शुभ माना जाता है। समुदाय के लोग मकर संक्रांति के दिन पवित्र स्नान के लिए यहां इकट्ठा होते हैं और कपिल मुनि मंदिर में नारियल का भोग भी लगाते हैं।

तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के लिए सरकार ने करीब 3,000 पुलिसकर्मियों और सात ड्रोन की तैनाती की। मेले के दौरान बेहतर कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के लिए अधिकारी सैटेलाइट फोन से लैस हैं। कोलकाता में बाबूघाट से सागर द्वीप तक 100 किलोमीटर के मार्ग पर 500 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

लगभग 55 विशाल एलईडी स्क्रीन यात्रियों को ट्रेनों, बसों, नौकाओं, ज्वार के समय एवं सुरक्षा सावधानियों से अवगत करा रहे हैं।

गंगासागर में सूर्य का नमन करतीं महिलाएं।
अमृतसर में स्वर्णमंदिर में स्थित कुंड में स्नान करते सरदारजी।

हरिद्वार में हर की पौड़ी का दृश्य

गंगासागर में स्नान के बाद दीया जलातीं महिलाएं

राजस्थान में हर्षोल्लास से मना मकरसंक्रांति का पर्व

राजस्थान में दानपुण्य का पर्व मकरसंक्रांति आज धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। सुबह से ही आराध्यदेव गोबिंद देव जी के मंदिर सहित अन्य मंदिरों में बड़ी संख्या में लोग भगवान के दर्शन करने और दान पुण्य कार्यों के लिए पहुंचे। इस पावन पर्व पर श्रद्धालुओं ने पवत्रि गलता तीर्थ, और अजमेर के पुष्कर तीर्थ में भी डुबकी लगाई। मंदिरों को पंतगों से सजाया गया और श्रद्धालुओं ने मंदिरों में तिल और गुड से निर्मित गजक, तिल पपडी,तिल के लड्डू भेंट किए। पतंग प्रेमी और बच्चे सुबह से ही अपने अपने घरों की छतों पर अलग अलग प्रकार की रंगीन पंतगों को उडाने का लुत्फ उठा रहें है।

कल देर रात तक पंतग प्रेमियों ने जयपुर के हांडीपुरा, जौहरी बाजार सहित अन्य प्रमुख बाजारों से पंतगों, मांझे की खरीददारी की। पंतग विक्रेता प्रकाश पवांर ने बताया कि पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष पतंगे मंहगी है लेकिन इससे पंतगों की बिक्री पर विशेष असर नहीं पड़ा। उन्होंने बताया कि पेपर से बनी लालटेन पंतग की मांग भी अन्य पंतगों के समान रही।

मध्य प्रदेश मे मकर संक्रांति की धूम, शिवराज ने दी शुभकामनाएं

मध्य प्रदेश में मकर संक्रांति का पर्व धूमधाम और उत्साह व उमंग से मनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों को मकर संक्रांति पर्व की बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। नदियों के तटों पर हजारों लोग डुबकी लगाकर उज्जवल भविष्य की कामना कर रहे हैं।

धार्मिक पंचांग और जानकारों के अनुसार, मकर संक्रांति का पर्व रविवार और सोमवार दो दिन है। इस लिहाज से कुछ लोग रविवार और कुछ सोमवार को मकर संक्रांति मनाएंगे। राज्य की प्रमुख नदियों क्षिप्रा, नर्मदा, बेतवा आदि के तटों पर सुबह से हजारों श्रद्धालु डुबकी लगा रहे हैं। इसके साथ ही देवालयों में विशेष पूजा अर्चना जारी है।

चौहान ने कहा कि स्नान, दान और सूर्य उपासना का यह पर्व उत्साह, उमंग और खुशियों का प्रतीक है। उन्होंने मकर संक्रांति पर लोगों की समृद्धि की कामना करते हुए कहा कि सरकार ऐसे सभी संभव कदम उठा रही है जो हर नागरिक को खुशहाल, निरोग और समृद्घ बनाने में सहयोगी हो।

हैदराबाद में मकर संक्राति पर पंतग उड़ाने की तैयारी करते भाजपा के कार्यकर्ता
गंगासागर में स्नान के बाद श्रद्धालु।
गंगासागर में स्नान करती लड़कियां

बिहार में चूड़ा, दही, तिलकुट खा मनाई खिचड़ी

बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मकर संक्रांति और लोहड़ी पर्व के अवसर पर बिहार के लोगों को अपनी शुभकामनाएं दी है।

गंगासागर में स्नान करता एक साधु

राज्यपाल ने अपने संदेश में आशा व्यक्त करते हुए कहा, "'मकर संक्रांति' एवं 'लोहड़ी' का पर्व राज्यवासियों के जीवन में सुख, सद्भावना और प्रेम का संचार करें, यही मेरी मंगलकामना है।" राज्यपाल ने इन पर्वो को उल्लास और भाईचारा के साथ मनाने की लोगों से अपील की है।

मकर संक्राति में मिठाई

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मकर संक्रांति और लोहड़ी पर्व पर लोगों को अपनी बधाई और शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने अपने संदेश में कहा, "मकर संक्रांति और लोहड़ी के पर्वो का सांस्कृतिक महत्व है। मकर संक्रांति के पावन स्नान के बाद लोग चूड़ा, दही, तिलकुट खाते और खिलाते हैं तथा इससे परस्पर प्रेम और सद्भाव बढ़ता है। नए फसलों के घर आने की खुशी में लोहड़ी पर्व को लोग मिलकर मनाते हैं।"

गंगासागर में मकर संक्राति में स्नान करतीं महिलाएं

हिमाचल में हजारों श्रद्धालुओं ने लगाई नदियों में डुबकी

मकर संक्रांति के शुभ उत्सव पर हजारों श्रद्धालुओं ने रविवार को ठंडे मौसम का सामना करते हुए भी हिमाचल प्रदेश की विभिन्न नदियों में डुबकी लगाई। शिमला से 52 किलोमीटर दूर तत्तापानी में सतलुज और कुल्लू जिले में सिखों के पवित्र धर्मस्थल मणिकरण में पार्वती नदी में डुबकी लगाने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जुटी। तत्तापानी और मणिकरण में मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली से भक्त पहुंचे।

गंगासागर में मकर संक्राति में स्नान के बाद सूर्य को अर्ध्य देतीं महिलाएं

तत्तापानी के एक पुजारी ने बताया, "हर साल मकर संक्रांति पर 20,000 से अधिक श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद होती है।"

इलाहाबाद में स्नान

लोकप्रिय पर्यटक स्थल मनाली के बाहरी इलाके में स्थित वशिष्ठ मंदिर में भी भक्तों ने डुबकी लगाई।मकर संक्राति का त्योहार गर्म दिनों के आगमन का सूचक है और यह देश के विभिन्न हिस्सों में धार्मिक हर्षोल्लास से मनाया जाता है।

Share it
Top