जन्मदिन विशेष : देखिए गोरखपुर जेल जहां पर राम प्रसाद बिस्मिल ने गुजारे थे अपने अंतिम दिन

तस्वीरों में देखिए गोरखपुर जेल जहां पर महान स्वत्रंतता सेनानी राम प्रसाद बिस्मिल ने बिताए थे अपने आखिरी दिन।

जन्मदिन विशेष : देखिए गोरखपुर जेल जहां पर राम प्रसाद बिस्मिल ने गुजारे थे अपने अंतिम दिन

आज हम जिस आजाद भारत में रह रहे हैं उस भारत को आजाद करने के लिए कई स्वतंत्रता सेनानियों नेे अपनी जान देे दी थी, ऐसे ही एक क्रांतिकारी हैं राम प्रसाद बिस्मिल। आज ही के दिन 11 जून, 1897 शाहजहाँपुर में हुआ था।


पंडित रामप्रसाद 'बिस्मिल' किसी परिचय के मोहताज नहीं। उनके लिखे 'सरफ़रोशी की तमन्ना' जैसे अमर गीत ने हर भारतीय के दिल में जगह बनाई और अंग्रेज़ों से भारत की आज़ादी के लिए वो चिंगारी छेड़ी जिसने ज्वाला का रूप लेकर ब्रिटिश शासन के भवन को लाक्षागृह में परिवर्तित कर दिया। ब्रिटिश साम्राज्य को दहला देने वाले काकोरी काण्ड को रामप्रसाद बिस्मिल ने ही अंजाम दिया था।

























Share it
Top