तस्वीरों में देखिए कैसे होली का त्योहार मनाते हैं छत्तीसगढ़ के आदिवासी

Mohit ShuklaMohit Shukla   27 March 2021 10:21 AM GMT

तस्वीरों में देखिए कैसे होली का त्योहार मनाते हैं छत्तीसगढ़ के आदिवासी

आदिवासी महिलाएं पलाश के फूलों को तोड़ कर के एकत्रित करने लगती हैं, फिर उनको धूप में सुखा कर गुलाल बनाती हैं। इसी गुलाल को एक दूसरे के टीका लगा कर के होली मनाते हैं। फोटो: मोहित शुक्ला/गोपी कृष्ण

कवर्धा (छत्तीसगढ़)। रंगों का त्यौहार होली आते ही बाज़ार में सिंथेटिक रंगों से दुकानें सज चुकी हैं, लेकिन आज भी आदिवासी समुदाय अपनी पुरानी परंपराओं को जिंदा रखे हुए हैं, वो पलाश के फूलों से रंग बनाते हैं।

यहां कई दिन पहले से होली की त्योहार शुरू हो जाता है, यहां पर बांस से बने मुखौटे को लगाकर बड़े ही धूमधाम से ढोलक की थाप पर फाग गीत गाकर होली मनाते हैं।

आदिवासी महिलाएं जंगल से पलाश के फूलों को इकट्ठा करती हैं। फोटो: गोपी कृष्ण

छत्तीसगढ़ की राजधानी से 200 किलोमीटर दूर कबीरधाम जिले के पंडरिया ब्लॉक में आने वाले आदिवासी इलाके कांदा वाणी पंचायत के आश्रित गांव बासाटोला में रहने वाले गोपी कृष्ण सोनी बताते हैं, "होली की तैयारी यहां एक महीने पहले से शुरू होने लगती है। आदिवासी महिलाएं पलाश के फूलों को तोड़ कर के एकत्रित करने लगती हैं, फिर उनको धूप में सुखा कर गुलाल बनाती हैं। इसी गुलाल को एक दूसरे के टीका लगा कर के होली मनाते हैं। वहीं पुरुष वर्ग बांस का मुखौटा तैयार करते हैं और उसको सजा कर मुंह पर मुखौटा लगा कर के सात दिनों तक होली मानते हैं।"

पलाश के फूलों को सुखाकर उनसे रंग और गुलाल बनाती हैं, जो पूरी तरह से प्राकृतिक होते हैं। फोटो: गोपी कृष्ण

ऐसे करते हैं होली की स्थापना

राम सिंह बैगा बताते हैं, "आदिवासी समुदाय होली के त्यौहार को हिंदुओं की देखा देखी करके मनाते हैं। होली के दिन पहले सेमल, तेंदू या बांस का डंडा जंगल से काटकर लाया जाता है फिर उसको गाँव के सार्वजनिक स्थान पर उसमें झाड़ू और सूपा को बाधा जाता है। इसके बाद जमीन में गड्ढे खोद करके मुर्गी का अंडा अंगुली का छल्ला और सिक्का रखा जाता है। डंडे के पास रात भर नगाड़ा बजाकर फाग गीत गाते है और नाचते हैं। पुर्णिमा की रात के अंतिम पहर में गाँव का मुकद्दम (पटेल मुखिया) होलिका दहन करता है।


महिलाएं एक साथ लोकगीत गाकर नाचती हैं। फोटो: गोपी कृष्ण


पुरुष वर्ग बांस का मुखौटा तैयार करते हैं और उसको सजा कर मुंह पर मुखौटा लगा कर के सात दिनों तक होली मानते हैं। फोटो: गोपी कृष्ण


महिलाएं एक दूसरे को प्राकृतिक रंग-गुलाल लगाती हैं। फोटो: गोपी कृष्ण


रात भर नगाड़ा बजाकर फाग गीत गाते है और नाचते हैं। फोटो: गोपी कृष्ण


फोटो: गोपी कृष्ण

Also Read:एक बार फिर याद करते हैं होली की कुछ खोई हुई कहानियां

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.