#WorldTigerDay : तस्वीरों में जानिए दुनिया में बची बाघ की प्रजातियों के बारे में

बाघों के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल International Tiger Day या बाघ दिवस मनाया जाता है।

Anusha MishraAnusha Mishra   29 July 2019 6:00 AM GMT

#WorldTigerDay : तस्वीरों में जानिए दुनिया में बची बाघ की प्रजातियों के बारे मेंबाघ

लखनऊ। आज विश्व बाघ दिवस (International Tiger Day 2020) है। बाघों के संरक्षण को ध्यान में रखते हुए एक दिन बाघों के नाम मनाया जाता है। जंगलों के कटान और अवैध शिकार के कारण बाघों की संख्या तेज़ी से कम हो रही है। वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड और ग्लोबल टाइगर फोरम के पूरी दुनिया में लगभग 3900 बाघ ही बचे हैं जिनमें से 2967 बाघ भारत में हैं।

दुनिया में बाघ की लगभग 11 प्रजातियां पाई जाती थीं जिसमें से ट्राइनिल और जापानी दो प्रजातियां प्रागैतिहासिक काल में ही विलुप्त हो गई थीं। बीसवीं सदी में इसमें से तीन और प्रजातियां बाली टाइगर, कैस्पियन टाइगर और जैवन टाइगर विलुप्त हो गईं। फिलहाल दुनिया में बाघ की 6 प्रजातियां अभी भी पाई जाती हैं।

यह भी पढ़ें : हर साल 100 से अधिक बाघ मारे जाते हैं और तस्करी की भेंट चढ़ते हैं: रिपोर्ट

बंगाल टाइगर

बंगाल बाघ भारत, बांग्लादेश, भूटान और नेपाल में पाया जाता है। यह बाघ की दुनिया में पाई जाने वाली सारी प्रजातियों में सबसे भारी और खूंखार होता है। इसमें पुरुष बाघ की नाक से पूछ तक की लंबाई 270 से 310 सेंटीमीटर और वजन लगभग 180 से 258 किलोग्राम होता है जबकि मादा बाघ की लंबाई 240 से 265 सेंटीमीटर और वजन 100 से 160 किलोग्राम तक होता है।

इंडोचाइनीज टाइगर

बाघ की यह प्रजाति कंबोडिया, चीन, बर्मा, थाईलैंड और वियतनाम में पाई जाती है। इस प्रजाति के बाघ पहाड़ों पर ही रहते हैं। पुरुष बाघ की लंबाई 270 सेंटीमीटर के करीब होती है और वजन 150 से 195 किलोग्राम तक होता है। वहीं, मादा बाघ की लंबाई 240 सेंटीमीटर होती है और वजन 100 से 130 किलोग्राम तक होता है।

मलयन टाइगर

यह प्रजाति मलय प्रायद्वीप में पाई जाती है। इसमें नर बाघ की लंबाई लगभग 190 से 280 सेंटीमीटर और वजन 47 से 129 किलोग्राम तक होता है। वहीं, मादा बाघ की लंबाई 180 से 260 सेंटीमीटर और वजन 24 से 88 किलोग्राम तक होता है।

यह भी पढ़ें : मोदी ने खींची थी जिस शिवा बाघ की फोटो, पर्यटकों में बढ़ी उस बाघ को देखने की चाहत

साइबेरियन टाइगर

साइबेरिया के सुदूर पूर्वी इलाके अमर-उसर के जंगलों में पाई जाने वाली बाघ की प्रजाति होती है। यह उत्तर कोरिया की सीमा के पास उत्तर-पूर्वी चीन में हुंचुन नेशनल साइबेरियाई टाइगर नेचर रिजर्व में कुछ संख्या में हैं और इनकी कुछ संख्या रूस के सुदूर पूर्व में भी पाई जाती है। इस प्रजाति में नर बाघ की लंबाई 190 से 230 सेंटीमीटर और वजन 180 से 306 किलोग्राम तक होता है जबकि मादा बाघ की लंबाई 160 से 180 सेंटीमीटर और वजन 100 से 167 किलोग्राम होता है।

साउथ चाइना टाइगर

यह प्रजाति लगभग विलुप्त होने के कगार पर है। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, लगभग पिछले 25 सालों से इस बाघ के पैरों के निशान तक नहीं देखे गए हैं। इसके साथ ही बाघ की इस प्रजाति का नाम विश्व के 10 लुप्तप्राय जीवों की लिस्ट में भी है। इस प्रजाति के नर बाघों की लंबाई 230 से 260 सेंटीमीटर और वजन लगभग 130 से 180 किलोग्राम होता है। वहीं, मादा बाघ की लंबाई 220 से 240 सेंटीमीटर और वजन लगभग 100 से 110 किलोग्राम होता है।

सुमत्रन टाइगर

ये बाघ सिर्फ सुमात्रा आइसलैंड में पाए जाते हैं। 1998 में इसे एक विशिष्ट उप- प्रजाति के रूप में सूचीबद्ध किया गया था। यह प्रजाति भी भारत की लुप्तप्राय प्रजातियों में शामिल है। इस प्रजाति के नर बाघ की लंबाई 220 से 255 सेंटीमीटर और वजन लगभग 100 से 140 किलोग्राम। वहीं, मादा बाघ की लंबाई 215 से 230 सेंटीमीटर और वजन 75 से 110 किलोग्राम होता है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.