पीएम पर झूठा आरोप लगाने के लिए केजरीवाल माफ़ी मांगें: अमित शाह

पीएम पर झूठा आरोप लगाने के लिए केजरीवाल माफ़ी मांगें: अमित शाहgaonconnection, पीएम पर झूठा आरोप लगाने के लिए केजरीवाल माफ़ी मांगें: अमित शाह

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शैक्षणिक डिग्री से जुड़े विवाद के बीच भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर जवाबी हमला किया। बीजेपी ने आज एक प्रेस कांफ्रेंस में पीएम मोदी की बीए और एमए की डिग्री को सार्वजनिक किया। मोदी की बीए डिग्री से जुड़े विवाद को एक नया मोड़ देते हुए आम आदमी पार्टी ने बीते दिनों आरोप लगाया था कि मोदी के नाम से मिलते-जुलते नाम वाले किसी शख्स की डिग्री को प्रधानमंत्री की डिग्री के तौर पर पेश किया जा रहा है। इसके बारे में आप के प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह धोखाधड़ी करने जैसा है।

पीएम के डिग्री विवाद पर बीजेपी ने आज जवाब देते हुए पीएम मोदी की डिग्री को सार्वजनिक किया। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पीएम की डिग्री को लेकर केजरीवाल झूठ फैला रहे हैं। केजरीवाल ने सार्वजनिक जीवन का स्तर गिराया है। अमित शाह ने कहा कि बिना सबूत के केजरीवाल ने इतना बड़ा सवाल कैसे खड़ा किया। अब केजरीवाल देश की जनता के सामने आकर सबूत दें वर्ना माफी मांगें। मैं केजरीवाल को पत्र लिखकर इस मामले की पूरी जानकारी दूंगा।

वहीं, केंद्रीय वित्त  मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि पीएम से बड़ा आम आदमी का उदाहरण नहीं हो सकता है। आरोप लगाने से पहले केजरीवाल पुख्ता  सबूत जुटाएं। केजरीवाल का सार्वजनिक जीवन निचले स्तेर पर चला गया है।

केजरीवाल ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वो पूरी जिम्मेदारी के साथ कह सकते हैं कि दिल्ली विश्वविद्यालय के रिकॉर्ड में नरेंद्र दामोदरदास मोदी का कोई जिक्र नहीं है और नरेंद्र कुमार महावीर प्रसाद मोदी नाम के एक शख्स ने 1975 में दाखिला लिया था। मोदी की डिग्री को सार्वजनिक करने की मांग कर रहे केजरीवाल ने कहा कि मुद्दा यह नहीं है कि प्रधानमंत्री 10वीं पास हैं या 12वीं पास मुद्दा ये है कि उन्होंने फर्जी प्रमाण-पत्रों की जानकारी दी है और देश के लोगों से धोखाधड़ी की है।

केजरीवाल ने कहा कि आपको प्रधानमंत्री बनने के लिए किसी डिग्री की जरूरत नहीं होती। जरूरी नहीं है कि प्रतिभा औपचारिक शिक्षा का ही उत्पाद हो। कम औपचारिक शिक्षा प्राप्त व्यक्ति भी बहुत प्रतिभावान हो सकता है, जैसे अन्ना हजारे का उदाहरण लें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले उन्होंने देश के सामने झूठ बोला, फिर उन्होंने अपने हलफनामे में झूठ बोला और अब डिग्री फर्जी निकल रही है। ये धोखाधड़ी का मामला है। यदि प्रधानमंत्री जैसे किसी व्यक्ति के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप हैं तो यह गंभीर मामला है।

केजरीवाल ने दावा किया कि ‘आप’ कार्यकर्ताओं ने डीयू के सभी विभागों में खोजबीन की, यहां तक कि स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग में भी गए, लेकिन न तो मोदी का पंजीकरण फॉर्म मिला और न उनकी डिग्री मिली।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top