आखिर क्यों बंटवारे के बाद गुरदीप जाना चाहता है पाकिस्तान: नीलेश मिसरा की आवाज़ में सुनिए कहानी 'सरहदें'

Ankita TiwariAnkita Tiwari   14 Aug 2018 8:04 AM GMT

एक दिन पाकिस्तान से एक चिट्टी आई कि ३ महीने बाद एक सड़क का नाम मेरे दारजी के नाम पर रखा जा रहा है । मैं तो खुशी से उछल पड़ा, और सोच लिया कि मैं पाकिस्तान जाऊँगा। पर पापाजी ने सख्ती से मना करा दिया। मुझे ताज्जुब हुआ कि पड़ोसी देश इतना बड़ा सम्मान दे रहा है और पापाजी मना कर रहे हैं?

हमारी और कहानियां सुनाने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा यूट्यूब चैनल: https://www.youtube.com/channel/UCy5mW8fB24ITiiC0etjLI6w

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top