Prabhat Singh

Prabhat Singh

कई अख़बारों में महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके प्रभात सिंह तीन दशक से फोटोग्राफी और पत्रकारिता की दुनिया में नए आयाम गढ़ रहे हैं। उनकी फोटोग्राफी प्रचलित फ्रेम को तोड़कर नए फ्रेम गढ़ने के लिए जानी जा रही है तो वो पत्रकार के रुप में घटनाओं के महज दर्शक नहीं होते, बल्कि उसके होने के कारण और परिणाम तलाशते हैं। गांव कनेक्शन में फोटोग्राफर की डायरी आपका वीकली कॉलम है...


  • किसान मुक्ति यात्रा और एक फोटोग्राफर की डायरी (भाग-2)  

    पहला भाग यहां पढ़ें-किसान मुक्ति यात्रा और एक फोटोग्राफर की डायरी (भाग-1)सुबह की सिहरन और गिरफ्तारी की तैयारीपौ फटने से पहले का उजाला और घर-बाहर के कामकाज की शुरुआत की वजह से गांव में सवेरा यों भी जल्दी हो जाता है। मगर उजाले से भी पहले सिहरन की वजह से मेरी आंख खुल गई. तमाम लोगों ने सिरहाने की रज़ाई...

  • किसान मुक्ति यात्रा और एक फोटोग्राफर की डायरी (भाग-1)

    मई-जून में मंदसौर में किसानों के आंदोलन की ख़बरें जिस समय आ रही थीं, देश के दूसरे हिस्सों में भी किसान दूध और सब्जियां सड़कों पर फेंककर अपना गुस्सा जता रहे थे। मीडिया के लिए उनकी दिक्कतों को समझने-समझाने से कहीं ज्यादा आसान था, सड़क पर फैले प्याज़-टमाटर की तस्वीरें दिखाना। और यह सब बाकायदा चल ही...

  • फोटोग्राफर की डायरी : किसान और राजस्थान

    किसान मुक्ति यात्रा के दौरान अब तक हुई सभाओं में शरीक लोगों से बातचीत, गाँवों में रहने के दौरान जो कुछ देखा-सुना उससे मुझे लगने लगा है कि उनकी मुश्किलों और मजबूरियों की वजहें भी भौगोलिक विविधता की तरह ही हैं। उनके जीवन का यथार्थ बहुस्तरीय है और इस नाते जटिल भी। इस जटिलता के चलते ही कोई एक समाधान...

  • किसान यात्रा : ‘यह जो अनुशासित लाइन है, यह खाद जुटाने के लिए पहुंचे किसानों की है’

    शाम गहराने लगी थी। सड़क के दोनों ओर अंगूर के खेतों को पीछे छोड़ते हम आगे बढ़ रहे थे। कहीं-कहीं गन्ने के खेत भी दिखे और हल-बैल के साथ किसान भी। मिट्टी धीरे-धीरे रंग बदल रही थी, मोटरों की रजिस्ट्रेशन प्लेट की इबारत भी। आख़िर एक मोड़ पर मिली पुलिस की एस्कॉर्ट गाड़ी और मोटरों की गति धीमी करने के लिए...

  • किसान मुक्ति यात्रा (भाग-6) : और एक दिन मेधा ताई के नाम

    जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों के प्रदर्शन और मंदसौर कांड के बाद शुरू हुई किसान मुक्ति यात्रा, जो मध्यप्रदेश समेत 7 राज्यों में गई। उस यात्रा में देश कई राज्यों के 130 किसान संगठन और चिंतक शामिल हुए। किसानों की दशा और दिशा को समझने के लिए वरिष्ठ पत्रकार प्रभात सिंह इस यात्रा में शामिल हुए। एक...

  • किसान मुक्ति यात्रा (भाग-4) : स्वागत में उड़ते फूल और सिलसिला नए तजुर्बात का

    जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों के प्रदर्शन और मंदसौर कांड के बाद शुरू हुई किसान मुक्ति यात्रा, जो मध्यप्रदेश समेत 7 राज्यों में गई। उस यात्रा में देश कई राज्यों के 130 किसान संगठन और चिंतक शामिल हुए। किसानों की दशा और दिशा को समझने के लिए वरिष्ठ पत्रकार प्रभात सिंह इस यात्रा में शामिल हुए। एक...

  • किसान मुक्ति यात्रा (भाग-5) : महाराज से मुलाक़ात और इन्दौर में प्रवास

    जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों के प्रदर्शन और मंदसौर कांड के बाद शुरू हुई किसान मुक्ति यात्रा, जो मध्यप्रदेश समेत 7 राज्यों में गई। उस यात्रा में देश कई राज्यों के 130 किसान संगठन और चिंतक शामिल हुए। किसानों की दशा और दिशा को समझने के लिए वरिष्ठ पत्रकार प्रभात सिंह इस यात्रा में शामिल हुए। एक...

  • किसान मुक्ति यात्रा (भाग-3) : किसान नेताओं की गिरफ्तारी और अफीम की सब्जी

    जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों के प्रदर्शन और मंदसौर कांड के बाद शुरू हुई किसान मुक्ति यात्रा, जो मध्यप्रदेश समेत 7 राज्यों में गई। उस यात्रा में देश कई राज्यों के 130 किसान संगठन और चिंतक शामिल हुए। किसानों की दशा और दिशा को समझने के लिए वरिष्ठ पत्रकार प्रभात सिंह इस यात्रा में शामिल हुए। एक...

Share it
Share it
Share it
Top