प्रदेश में हर 13 घंटे में करीबी का शिकार बनती हैं महिलाएं

प्रदेश में हर 13 घंटे में करीबी का शिकार बनती हैं महिलाएंgaoconnection

लखनऊ। निगोहा थाना क्षेत्र में शिक्षक ने छत पर सो रही छात्रा को हवस का शिकार बना गुरु-शिष्य के बीच का पवित्र रिश्ता तार-तार कर दिया। किशोरी के शोर मचाने पर शिक्षक ने उसकी पिटाई कर दी। जब तक पिता उठकर दौड़ा तब तक आरोपी मौके से फरार हो गया। किशोरी का पिता जब उसे लेकर थाने पहुंचा तो पुलिस ने तहरीर के पर मुकदमा दर्ज कर पीड़िता को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा। वहीं आरोपी शिक्षक को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। 

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के 2014 के आंकड़ों के मुताबिक देश में हर एक घंटे में चार रेप की वारदात होती हैं यानी हर 14 मिनट में रेप की एक वारदात सामने आती है। 2014 में रेप के कुल 36 हज़ार 975 मामले दर्ज हुए। आंकड़ों के मुताबिक औसतन हर दो दिन में पुलिस कस्टडी में कम से कम एक रेप की वारदात होती है और हर वर्ष पुलिस कस्टडी में करीब 197 रेप होते हैं। हर 13 घंटे में एक महिला अपने किसी करीबी के द्वारा ही रेप की शिकार होती है। वर्ष 2014 में रेप की 674 वारदात को महिला के करीबियों ने ही अंजाम दिया। जबकि छह साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ भी हर 17 घंटे में एक रेप की वारदात को अंजाम दिया जाता है। 

निगोहा में हुए इस मामले के एक दिन पूर्व गुरुवार को बीकेटी इलाके में सात साल की बच्ची को टॉफी दिलाने के बहाने पड़ोस में रहने वाले युवक ने अपनी हवस का शिकार बनाने का प्रयास किया था लेकिन वह अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाया था। जनपद प्रतापगढ़ के थाना फतनपुर क्षेत्र के ग्राम पटहकिया निवासी ओम प्रकाश यादव निगोहां क्षेत्र के अहिलवार गांव में स्थित बीएलबीएल हाईस्कूल विद्यालय में शिक्षक है। विद्यालय के ही पड़ोस में पिता रामलाल के साथ उनकी 16 वर्षीय बेटी संगीता (दोनों नाम काल्पनिक) रहती है।

संगीता इसी स्कूल में कक्षा आठ की छात्रा है। पीड़िता के पिता का आरोप है गुरूवार की रात संगीता छत पर अकेली सो रही थी। तभी मौका पाकर शिक्षक ओम प्रकाश भी छत पर चढ़ गया और दुष्कर्म किया। थाना प्रभारी निगोहा अरुण प्रताप सिंह ने बताया किशोरी के पिता की तहरीर के आधार पर दुराचार, मारपीट और पॉक्सो एक्ट और 3(2)5 एससी,एसटी के तहत मुकदमा दर्ज कर पीड़िता को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया। वहीं मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने शुक्रवार को आरोपी शिक्षक को ग्राम रघुनाथखेड़ा से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। 

एनसीआरबी आंकड़ों के अनुसार मध्य प्रदेश में औसतन 11 मामले प्रतिदिन दर्ज किए जाते हैं। वहां ऐसे मामलों की कुल संख्या 4,335 रही जो अन्य सभी राज्यों से ज्यादा है। मध्य प्रदेश के बाद राजस्थान में 3,285 मामले, महाराष्ट्र में 3,063 और उत्तर प्रदेश में 3,050 मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों के अनुसार 2013 में 13,304 मामलों में पीड़ित नाबालिग थी जबकि उसके पिछले साल यह संख्या 9,082 थी। आंकड़ों के अनुसार अधिकतर मामलों में अपराध को अंजाम देने वाला पीड़ित का परिचित था।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top