प्रधानी चुनाव में 80 फीसदी पुराने प्रधानों की छुट्टी

प्रधानी चुनाव में 80 फीसदी पुराने प्रधानों की छुट्टीगाँव कनेक्शन

लालगंज (रायबरेली)। रायबरेली जिले में इस बार प्रधानी चुनाव में एक नई तस्वीर सामने आई है। जिले की जनता ने अपने पुराने प्रधानों को ग्रामीण सत्ता में रहने से नकार दिया है। इसका नतीजा यह हुआ है कि जिले में 80 फीसदी पुराने प्रधानों को चुनाव में शिकस्त झेलनी पड़ी है।

खजूरपुर न्याय पंचायत की गेगासो ग्रामसभा में उर्मिला शुक्ला ने अपनी विरोधी पूनम बाजपेयी को प्रधानी के चुनाव में 212 मतों से हराया है। उर्मिला की इस जीत पर पूरे गाँव में मानो दीवाली सा माहौल है। 

रायबरेली जिला मुख्यालय से 37 किमी उत्तर पश्चिम दिशा में गंगा नदी के तटीय इलाके में गेगासो ग्रामसभा एक बड़ी पंचायत है। 1135 मत पाकर पंचायत चुनाव में बड़ी जीत हांसिल करने वाली उर्मिला अपनी जीत पर बताती हैं, "हज़ार से भी ज़्यादा वोटों से जीतना कोई आम बात नहीं है। अपनी जीत पर मैं सभी गाँव के परिवारों और मेरे समर्थकों को बधाई देती हूं।"

रायबरेली जिले में इस बार 18 ब्लॉकों की मतगणना सुबह से ही शुरू हो गयी थी, देर रात होते-होते एक के बाद एक नतीजे आने लगें। इस बार प्रधानी चुनाव में जिले भर से 989 प्रधान पद और 12430 ग्राम पंचायत सदस्य ने अपना भाग्य आज़माया था।

विकास खण्ड लालगंज की अधिकतर ग्राम पंचायतो को इस बार चुनाव में नये प्रधान मिल गये है। पांच वर्तमान प्रधानो को छोड़कर बाकी बचे वर्तमान प्रधानों को ग्रामीण जनता ने नाकार कर दिया है। खजूरगांव में सर्वेश यादव ने 692 मत पाकर सधई मल्लाह को 86 मतों से शिकस्त दी। मीठापुर में रामलखन पासी ने आशादेवी को 167 वोटो से पराजित किया है। जनेवा कटरा में पंचू पासी ने 167 मत पाकर जवाहर को नौ मतों से हराया है। सरांय बैरियाखेड़ा न्याय पंचायत की जगतपुर भिचकौरा में महेश कुमार ने 432 मत पाकर जागेन्द्र सिंह को 74 मतो से पराजित किया है।

रायबरेली जिलाधिकारी सुर्यपाल गंगवार ने बताया, "सभी ब्लॉकों में काउंटिंग के समय सुरक्षा का ख़ास ख्याल रखा गया था। लालगंज के कुछ क्षेत्रों में भीड़ के कारण कुछ दिक्कते सामने आईं पर बाकी जगह मतगणना शान्तिपूर्वक सम्पन हुई। मेरी तरफ से सभी विजयी प्रत्याशियों को शुभकामनाएं।"

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top