प्रतापगढ़ में बढ़ता अपराध चिंता का विषय: डीजीपी

प्रतापगढ़ में बढ़ता अपराध चिंता का विषय: डीजीपीगाँव कनेक्शन

लखनऊ। पंचायत चुनावों को निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए पुलिस महानिदेशक ने जनता, मीडिया और पुलिस फोर्स का आभार व्यक्त किया। डीजीपी कार्यालय के सभागार में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने प्रतापगढ़ में बढ़ रही अपराध की घटनाओं पर चिंता व्यक्त की। इस दौरान डीजीपी दोषियों के संबंध में कुछ बताने से कतराते रहे।

ग्राम पंचायत चुनाव को सकुशल संपन्न कराने के लिए शासन ने जून से ही तैयारियां शुरू कर दी थीं। यह जानकारी देते हुए पुलिस महानिदेशक जगमोहन यादव ने बताया कि जुलाई माह तक हर जि़ले में चुनाव सेल बनाया गया था। इस सेल की जिम्मेदारी थी कि पूरे क्षेत्र में शांति व्यवस्था कायम रहे। केंद्र सरकार ने भी बिहार चुनाव के कारण पैरामिलेट्री फोर्स प्रदेश में नहीं भेजी। ऐसे में हमने प्रदेश के 93 हजार होमगार्डों और 11 हजार पीआरडी जवानों को सिपाहियों के रूप में चुनाव में तैनात किया। प्रोटेक्टर और हेलमेट देने के साथ इन्हें टोलियों में बांट दिया गया। एक दर्जन जवानों के साथ दो सिपाहियों को नियुक्त किया गया और इनको क्या करना है, जिला स्तर पर इसकी जानकारी लगातार इनको दी जाती रही। 

डीजीपी ने बताया कि संभवत: यह पहला चुनाव होगा जब पुलिस प्रशासन पर आरोप-प्रत्यारोप नहीं लगे। चुनाव के दौरान हुई सभी घटनाओं की वीडियोग्राफी कराई गई, दोषियों पर मुकदमे दर्ज करने पर जोर दिया गया ताकि मामले वहीं शांत हो जाएं। पूर्वांचल, मध्यांचल और पश्चिम उत्तर प्रदेश में ड्रोन कैमरे से निगरानी भी की गई। यही कारण था कि जहां भी घटना की सूचना मिलती तो पांच मिनट के अंदर ही पुलिस मौके पर पहुंच जाती। 

शाहजहांपुर की घटना की होगी जांच

डीजीपी जगमोहन यादव ने शाहजहांपुर में पुलिस द्वारा गाँव वालों पर की गई कार्रवाई के संबंध में बताया कि हो सकता है ज्यादती हो गई हो। पुलिस जब दबिश देती है तो अक्सर गाँव वाले खेतों में और रिश्तेदारों के घरों में छिप जाते हैं। मामले की जांच कराई जाएगी। 

Tags:    India 
Share it
Top