पर्यावरण रक्षा व प्रदूषण नियंत्रण के लिए वर्मी कम्पोस्ट ज़रूरी

पर्यावरण रक्षा व प्रदूषण नियंत्रण के लिए वर्मी कम्पोस्ट ज़रूरीgaoconnection

लखनऊ। पर्यावरण की रक्षा और जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए राज्यपाल राम नाईक ने 10 मई को राजभवन में स्थापित वर्मी कम्पोस्ट यूनिट के नवनिर्मित शेड का उद्घाटन करके 73 उद्यान कर्मियों को पुरस्कृत भी किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा, “वर्मी कम्पोस्ट शेड के निर्माण से पर्यावरण की रक्षा के साथ-साथ प्रदूषण नियंत्रण भी किया जा सकता है। इससे जमीन की उर्वरकता को लाभ होगा। इसका प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए ताकि किसान इसका व्यवसायिक तौर पर प्रयोग कर सकें।”नाईक ने कहा कि राजभवन में स्थापित वर्मी कम्पोस्ट यूनिट के माध्यम से 540 कुन्तल वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण होगा और उसका उपयोग राजभवन उद्यान के प्रयोग में लाया जा सकेगा।

इस कम्पोस्ट खाद से राजभवन में प्रतिवर्ष लगभग एक लाख रूपए से ज्यादा की खाद खरीद व्यय पर बचत होगी। राजभवन में पिछले वर्ष स्थापित आर्गेनिक वेस्ट कन्वर्टर तथा नवनिर्मित वर्मी कम्पोस्ट शेड की स्थापना प्रदेश के शहरी नागरिकों एवं किसानों के लिए मार्गदर्शन का काम करेगा।राजभवन में स्थापित वर्मी कम्पोस्ट शेड का निर्माण तय समय सीमा के अन्दर हुआ और निर्धारित बजट में हुआ। नाईक ने बताया कि इस कार्य की अनुमानित लागत 10.14 लाख रुपए थी। शेड का कार्य 3 नवम्बर, 2015 को प्रारम्भ हुआ और लगभग सात माह के अन्दर इसका उद्घाटन हो गया।उन्होंने कहा कि समय-सीमा के अन्दर काम होने से 0.78 लाख रुपए की बचत भी हुई। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top