पुलिसिया कहर से घबराया किशोर तालाब में कूदा, मौत

पुलिसिया कहर से घबराया किशोर तालाब में कूदा, मौतगाँव कनेक्शन

बाराबंकी। प्रधानी की रंजिश में पुलिस कहर से डरे एक किशोर की उस समय मौत हो गई जब वो तालाब में कूद पड़ा और बाहर नहीं निकल पाया क्योंकि तालाब के किनारे पुलिस के जवान बंदूक लिए खड़े थे। 

पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद ने देवा कोतवाल को निलंबित करते हुए दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

मामला देवा कोतवाली के गाँव कुसुंभा का है। यहां पर पूर्व ग्राम प्रधान शिवनाथ यादव हार गया था और संत कुमार गौतम ने जीत दर्ज की थी। चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद दोनों पक्षों में विवाद चल रहा था। 29 दिसंबर को दोनों के समर्थकों के बीच में उस समय हथगोले और फायरिंग हुई जब शिवनाथ का समर्थक नहर से बालू खनन करा रहा था। दोनों पक्ष के 13 लोग उस दौरान घायल हुए थे।

पुलिस ने पूर्व प्रधान समर्थक लक्ष्मीकांत की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया था लेकिन संत कुमार की ओर से कोई मुकदमा नहीं दर्ज किया गया। इसके बाद गुरुवार को शिवनाथ ने अपने साथ कोतवाली देवा पुलिस की जीप में खुद बैठकर ऐलान करवा दिया कि सभी लोग अपनी अपनी गिरफ्तारी दे दे नहीं तो घरों की कुर्की कर दी जाएगी। शुक्रवार को जब शिवनाथ पुलिस के साथ गाँव पहुंचा तो पुलिस ने दबिश देना शुरू की।

इससे डरे लोगों ने भागना शुरू कर दिया। इस दौरान चार युवक नदी की तरफ भागे तो पुलिस ने गोली मारने का आदेश सुना दिया जिसके बाद सभी पास के ही तालाब में कूद गए। पुलिस तालाब किनारे बन्दूक लिए खड़ी रही। इस दौरान तीन युवक तो किसी तरह तालाब से तैर कर निकल गए लेकिन 14 साल के अंकित की उसी तालाब में डूबकर मौत हो गयी। घटना की जानकारी मिलते ही जिले के पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद भी मौके पर जा पहुंचे। अपर जिलाधिकारी हरिकेश चौरसिया ने मृतक के परिजन को आर्थिक सहायता देने के साथ साथ मुख्यमंत्री राहत कोष से भी मदद कराने का भरोसा दिलाया है।

First Published: 2016-09-16 16:04:20.0

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top