राहुल के 'फेयर एंड लवली' योजना के बयान पर जेटली का पलटवार

राहुल के फेयर एंड लवली योजना के बयान पर जेटली का पलटवारगाँवकनेक्शन

नई दिल्ली (भाषा)। राहुल गांधी के 'फेयर एंड लवली' वाले बयान पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उन्हें आड़े हाथों लिया है। अरुण जेटली ने कहा कि ये मुहावरा ना सिर्फ नस्लीय और राजनीतिक रूप से गलत है बल्कि नासमझी का भी उदाहरण है। उन्होंने सवाल किया कि इसका मतलब ये हुआ कि जो गोरा नहीं है, वो सुंदर नहीं है।

2016-2017 के बजट पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए वित्त मंत्री अरण जेटली ने आज कहा कि विपक्ष की ओर से इस बात पर बहुत टिप्पणी की जा रही है कि ‘काले धन' का क्या हुआ। वित्त मंत्री ने कहा कि इस संबंध में सरकार की योजना पर एक मुहावरे के साथ व्यंग्य कसा जा रहा है। जेटली ने इस संदर्भ में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बयान का परोक्ष जिक्र करते हुए कहा, ''आपने जिस मुहावरे का प्रयोग किया वह दरअसल नस्लीय है जिसका मतलब है जो गोरा नहीं है वो प्यारा नहीं है''

उन्होंने कहा, ''इस मुहावरे का उपयोग राजनीति रुप से भी गलत है और मैं इसे नासमझी के तौर पर लेता हूं।'' दरअसल बजट पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए राहुल ने अघोषित आय को जाहिर करने वालों को 45 प्रतिशत जुर्माना देकर इसे निपटाने की सरकार की योजना को ‘कालेधन को गोरा' करने वाली ‘फेयर एंड लवली' योजना बताया था।

वित्त मंत्री ने अघोषित आय की स्वैच्छिक घोषणा से संबंधित संयुक्त मोर्चा सरकार में वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम की वीडीआईएस योजना का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा जिसका वो बाहर से समर्थन कर रही थी। उन्होंने कहा कि उनकी योजना को ईमानदार करदाताओं के लिहाज से ‘अनैतिक' बताया गया था क्योंकि 1997 में पेश योजना के तहत 1987 की आय के आधार पर मामलों का निपटारा हो रहा था।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top