कालेधन के खिलाफ लड़ाई एक कदम से नहीं जीती जा सकती: नायडू 

कालेधन के खिलाफ लड़ाई एक कदम से नहीं जीती जा सकती: नायडू केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू।

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु के आर के नगर उपचुनाव में धन बल के इस्तेमाल के कारण उपचुनाव रद्द करने के निर्वाचन आयोग के निर्णय की सराहना करते हुए आज कहा कि काले धन के खिलाफ लड़ाई को सिर्फ एक कदम के जरिए नहीं जीता जा सकता तथा मोदी सरकार इस दिशा में और भी कदम उठाएगी।

धन बल के इस्तेमाल के आरोपों के बीच चुनाव आयोग के इस कदम को सही फैसला बताते हुए नायडू ने कांग्रेस पर उसके शासनकाल में हजारों करोड़ रुपये के कथित विभिन्न घोटालों के जरिए काला धन जुटाने पर हमला बोला।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

नायडू ने ईवीएम से छेड़छाड़ के मुद्दे पर विपक्षी दलों पर भी हमला बोला और कहा, ‘‘उन्हें ऐसे मुद्दे उठाने के बजाय आत्मावलोकन करना चाहिए क्योंकि ऐसा लगता है कि जनता द्वारा खारिज किए जाने के बाद वे हार स्वीकार नहीं कर सकते हैं।''

उन्होंने कहा, ‘‘नरेंद्र मोदी सरकार ने काले धन के खिलाफ लडाई शुरु की है। कालेधन के खिलाफ लड़ाई किसी एक कदम से पूरी नहीं हो सकती। नोटबंदी और नई मुद्रा को चलन में लाना सही दिशा में बढ़ाया गया एक कदम है। काले धन के इस्तेमाल पर काबू पाने के लिए हमारी सरकार द्वारा कई और भी चीजें किए जाने की जरुरत है।'' आर के नगर उपचुनाव के बारे में मंत्री ने कहा कि विस्तृत जांच के बाद यह चुनाव आयोग की ओर से लिया गया उचित फैसला है।

नायडू ने कहा कि आयोग ने चुनाव रद्द करके सही काम किया है, क्योंकि हमने देखा कि कितने निर्लज्ज तरीके से धन बांटा जा रहा था और विभिन्न रिपोर्टों ने इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने कहा, ‘‘इसीलिए मुझे लगता है कि चुनाव आयोग का फैसला सही है और यह लोकतंत्र के हित में है।'' भाजपा के वरिष्ठ नेता ने इस फैसले के साथ राजनीतिक उद्देश्य जुड़े होने के आरोपों को दरकिनार कर दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘यह चुनाव आयोग का फैसला है और एक सही फैसला है. इस फैसले के पीछे राजनीतिक उद्देश्यों की बात कहना गलत है। यह सर्वविदित है कि धन बांटा जा रहा था। ऐसा रिकॉर्ड में सामने आया है।'' उन्होंने कहा कि आयकर अधिकारियों ने अपना काम किया है और राजनीतिक दलों द्वारा इस तरह से प्रतिक्रिया दिया जाना स्वाभाविक है।

विपक्ष द्वारा ईवीएम से छेड़छाड़ करने के आरोपों के बारे में नायडू ने कहा, ‘‘ईवीएम से कोई छेड़छाड़ नहीं की गई। चुनाव आयोग ने इसकी पुष्टि की है।'' उन्होंने कहा, ‘‘विपक्षी दल अपनी हार के लिए बहाने ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं। देश के लोगों ने उन्हें खारिज कर दिया है और अब समय है कि वे आत्म अवलोकन करें। ईवीएम का इस्तेमाल पहले भी किया जाता था और जब भाजपा पंजाब, दिल्ली और बिहार में हारी, तब वे खुश थे। अब जब वे खुद हार रहे हैं, तो उसे वे पचा नहीं पा रहे।''

कांग्रेस के नेता पी. चिदंबरम द्वारा प्रधानमंत्री पर कसे गए तंज पर नायडू ने कहा कि वह (चिदंबरम) इसे बेहतर ढंग से बयां कर पाएंगे क्योंकि अधिकतर काला धन उनकी पार्टी के शासनकाल में जुटाया गया था। उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह की दलीलें देना हास्यास्पद है। काले या सफेद धन का पता जांच के बाद ही चलेगा। लेकिन धन का इस्तेमाल तो निश्चित तौर पर हुआ है। वह (चिदंबरम) इसे बेहतर ढंग से बयां कर सकते हैं क्योंकि वह उस इलाके से आते हैं।''

उन्होंने कहा, ‘‘जैसा कि मैंने कहा कि अधिकतर कालाधन कांग्रेस के शासनकाल में पैदा हुआ, जिस दौरान कई घोटाले हुए। इनमें 2जी, 3जी, सीडब्ल्यूजी, अगस्ता आदि घोटाले शामिल हैं। ये सभी कांग्रेस सरकार के दौरान हुए।'' पी. चिदंबरम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए पूछा था कि क्या उनके नोटबंदी के अभियान ने मनचाहे परिणाम दिए हैं?

पूर्व वित्तमंत्री और पूर्व गृहमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘हमें बताया गया था कि नोटबंदी ने कालेधन को खत्म कर दिया है। क्या आर के नगर में सफेद धन बांटा गया था?''

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top