गुजरात में कांग्रेस के कई बड़े चेहरे हारे, भाजपा के ज्यादातर दिग्गजों को मिली जीत

गुजरात में कांग्रेस के कई बड़े चेहरे हारे, भाजपा के ज्यादातर दिग्गजों को मिली जीतग्राफिक डिजाइन: कार्तिक उपाध्याय

नई दिल्ली (भाषा)। गुजरात विधानसभा चुनावों में सत्ताधारी भाजपा के ज्यादातर दिग्गजों को जीत मिली है, जबकि कांग्रेस के कुछ दिग्गजों को हार का मुंह देखना पड़ा है।

इन्हें मिली करारी शिकस्त

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघानी जैसे दिग्गजों को जीत मिली है, जबकि कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अर्जुन मोढ़वाड़िया, सिद्धार्थ चिमनभाई पटेल और राष्ट्रीय प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है। हालांकि, परेश धनानी और अल्पेश ठाकोर जैसे युवा कांग्रेस नेताओं को जीत मिली है। कांग्रेस समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार जिग्नेश मेवानी ने भी बड़े अंतर से जीत दर्ज की है।

विजय रुपाणी और नितिन पटेल को मिली जीत

मुख्यमंत्री एवं राजकोट पश्चिम सीट से भाजपा उम्मीदवार विजय रुपाणी ने कांग्रेस के अरबपति उम्मीदवार इंद्रनील राजगुरु को 53,755 वोटों से हराया, जबकि नितिन पटेल ने महेसाणा सीट पर कांग्रेस के जीवाभाई अंबालाल को करीब 8,000 वोटों से हराया।

वीरेंद्र सिंह और बाबूभाई बोखिरिया जीते

दूसरी ओर, कांग्रेस के दिग्गज नेता गोहिल को मांडवी सीट पर भाजपा के वीरेंद्र सिंह जडेजा ने करीब नौ हजार मतों से हराया, जबकि पोरबंदर सीट पर मोढ़वाड़िया को भाजपा उम्मीदवार और राज्य सरकार में मंत्री बाबूभाई बोखिरिया ने 1,855 वोटों से मात दी।

भाजपा के विजय कुमार और लविंगजी मुलजीजी हारे

गुजरात में दलित समुदाय के बड़े चेहरे के तौर पर उभरे कांग्रेस समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार जिग्नेश मेवानी ने वड़गाम सीट पर भाजपा के विजय कुमार हरखाभाई चक्रवर्ती को करीब 20,000 वोटों से पराजित किया। वहीं, चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हुए ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर ने राधनपुर सीट पर भाजपा उम्मीदवार लविंगजी मुलजीजी ठाकोर को करीब 15,000 वोटों से हराया।

भाजपा के ही बवूकभाई उंधड़ और जय नारायण व्यास भी हारे

अमेरली सीट पर कांग्रेस के दिग्गज नेता परेश धनानी ने भाजपा उम्मीदवार बवकूभाई उंधड़ को करीब 12,000 वोटों से हराया। गुजरात सरकार के मंत्री और प्रवक्ता रह चुके भाजपा उम्मीदवार जय नारायण व्यास को सिद्धपुर सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार चंदनजी तालाजी ठाकोर ने करीब 17,000 वोटों से हराया। साल 2007 से 2012 तक मंत्री रहे व्यास को 2012 के विधानसभा चुनाव में भी हार का सामना करना पड़ा था। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री चिमन भाई पटेल के बेटे और दाभोई से कांग्रेस उम्मीदवार सिद्धार्थ चिमनभाई पटेल को भाजपा के शैलेशभाई कन्हैया लाल मेहता ने करीब 2800 वोटों से हराया।

यह भी पढ़ें: कोई जीते-कोई हारे, टि्वटर पर चले हंसी के फव्वारे

अब 19 राज्यों में बीजेपी का परचम

गुजरात का सियासी इतिहास: लगातार 14 साल कांग्रेस और 17 साल भाजपा का शासन

Share it
Top