पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा विधानसभा चुनावों में भाजपा का वोट प्रतिशत गिरा 

पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा विधानसभा चुनावों में भाजपा का वोट प्रतिशत गिरा कराद में एक दुकान पर भाजपा का सिम्बल।

नई दिल्ली (भाषा)। भाजपा ने उत्तर प्रदेश के पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले इस बार अपने वोट प्रतिशत में दोगुना से भी ज्यादा की बढ़ाेत्तरी करने में कामयाबी हासिल की है। इस विधानसभा चुनाव में भाजपा को करीब 40 फीसदी वोट मिले हैं हालांकि, विधानसभा चुनाव में भाजपा को मिला वोट प्रतिशत 2014 के लोकसभा चुनाव में मिले वोट प्रतिशत की तुलना में कम है।

चुनाव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

भाजपा ने 46 फीसदी से ज्यादा वोट बटोर कर पड़ोसी उत्तराखंड में भी अच्छा प्रदर्शन किया है, हालांकि, उसे पिछले लोकसभा चुनाव में राज्य में करीब 56 फीसदी वोट मिले थे।

पंजाब में कांग्रेस की बड़ी जीत लगभग तय है।साल 2014 के लोकसभा चुनावों में पंजाब में भाजपा को करीब नौ फीसदी वोट मिले थे, लेकिन इस विधानसभा चुनाव में पार्टी को पांच फीसदी वोट से संतोष करना पड़ा।

गोवा में लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा को 54 प्रतिशत वोट मिले थे, लेकिन इस विधानसभा चुनाव में पार्टी को करीब 33 फीसदी वोट ही मिले।

हालांकि, मणिपुर विधानसभा चुनाव में भाजपा के वोट प्रतिशत में अच्छा-खासा उछाल आया है। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा को मणिपुर में 12 फीसदी वोट मिले थे, लेकिन इस विधानसभा चुनाव में उसे करीब 35 फीसदी वोट मिले हैं।

भाजपा की विरोधी पार्टियों-सपा, बसपा और कांग्रेस-के वोट प्रतिशत में 2012 के विधानसभा चुनाव के मुकाबले इस चुनाव में तो काफी गिरावट आई है, लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले इस विधानसभा चुनाव में उनके वोट प्रतिशत में कुछ खास बदलाव नहीं आया है।

उत्तर प्रदेश में भाजपा को 14 साल बाद जीत मिली है, जबकि प्रतिद्वंद्वी पार्टियां अपने वोट प्रतिशत को उसी अनुपात में सीटों में तब्दील नहीं कर सकीं।

ताजा रुझानों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों में से करीब 300 पर भाजपा को जीत मिलती दिख रही है। चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध वोट प्रतिशत के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक, भाजपा को 39.6 फीसदी, सपा और बसपा को 22-22 फीसदी जबकि कांग्रेस को छह फीसदी से थोडे ज्यादा वोट मिले हैं।

राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) को दो फीसदी से भी कम वोट मिले जबकि भाकपा को महज 0.2 फीसदी से संतोष करना पड़ा। 0.9 फीसदी मतदाताओं ने ‘नोटा’ का बटन दबाया। तीन सीटों पर आगेे चल रहे निर्दलीय उम्मीदवारों को 2.5 प्रतिशत वोट मिले।

भाजपा को 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में 42.6 प्रतिशत वोट मिले थे जबकि 2012 के राज्य विधानसभा चुनाव में उसे महज 15 फीसदी वोट मिले थे।

सपा का वोट प्रतिशत 2014 में 22.3 फीसदी रहा था, जिसमें इस बार कुछ खास बदलाव नहीं हुआ. हालांकि, उसे 2012 के राज्य विधानसभा चुनाव में 29 फीसदी से ज्यादा वोट मिले थे।

मायावती की अगुवाई वाली बसपा के वोट प्रतिशत में पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले थोड़ी बढ़ोत्तरी हुई है, पिछले लोकसभा चुनाव में बसपा को करीब 20 फीसदी वोट मिले थे, लेकिन इस बार करीब 22 फीसदी वोट मिले हैं। साल 2012 के विधानसभा चुनाव में बसपा को करीब 26 फीसदी वोट मिले थे। कांग्रेस के वोट प्रतिशत में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। साल 2012 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में उसे 11.6 प्रतिशत वोट मिले थे जो 2014 के लोकसभा चुनाव में घटकर 7.5 फीसदी रह गया. इस विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करीब छह फीसदी वोट से ही संतोष करना पड़ा गोवा में सीटें मुख्यत: भाजपा और कांग्रेस के बीच बंटी, भाजपा को करीब 33 फीसदी जबकि कांग्रेस को 28 फीसदी वोट मिले हैं।

मणिपुर में भाजपा को करीब 36 फीसदी जबकि कांग्रेस को करीब 34 फीसदी वोट मिले हैं। पंजाब में भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल को क्रमश: 5.2 और 25.4 प्रतिशत वोट मिले जबकि कांग्रेस को 38 फीसदी से ज्यादा वोट मिले।

दिल्ली में सरकार चला रही आम आदमी पार्टी (आप) को एग्जिट पोल के नतीजों में सरकार बनाने की प्रबल दावेदार के तौर पर पेश किया गया था, लेकिन सीटों के मामले में उसका प्रदर्शन बहुत कमजोर रहा, गोवा में भी पार्टी को सिर्फ छह फीसदी वोट मिले(

उत्तराखंड में भी भाजपा को प्रचंड जीत मिली है, इस राज्य में कांग्रेस को 33.5 फीसदी वोट मिले जबकि निर्दलीय उम्मीदवारों को 10 फीसदी से ज्यादा वोट मिले।

Share it
Top