बनावटी सपाइयों से रहें सतर्क : अखिलेश यादव

बनावटी सपाइयों से रहें सतर्क : अखिलेश यादवअखिलेश ने भाजपा सरकार पर जमकर साधा निशाना। 

लखनऊ। रमाबाई अंबेडकर मैदान में सपा के आठवें राज्य सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ पर जमकर निशाना साधा।

उन्होंने कहा, भारतीय जनता पार्टी के पास लोगों को गुमराह करने के अलावा विकास का कोई मुद्दा नहीं है। सपा के इस सम्मेलन में नरेश उत्तम को दोबारा पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। सम्मेलन में राजनीतिक प्रस्ताव भी रखा गया। सम्मेलन से मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव नदारद रहे।

कार्यकर्ताओं में दिखा गजब का उत्साह।

इस दौरान अखिलेश ने कहा, “कुछ बनावटी समाजवादियों की वजह से हम हार गए। हमारी सरकार नहीं बनी, लेकिन अब हमें सावधान रहने की जरुरत है। हम समाजवादियों की आंखें खुल गई हैं। नेताजी हमारे पिताजी हैं। उनका आशीर्वाद हमारे साथ है आगे भी रहेगा तो समाजवादी पार्टी के आंदोलन को कोई रोक नहीं पाएगा।” उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश में अभी बस छह महीनें हुए हैं भाजपा की सरकार बने, लेकिन जनता भजपा सरकार से त्रस्त आ चुकी है। कर्जमाफी के नाम पर किसानों के साथ मजाक किया गया है।

नोटबंदी पर भी मोदी पर निशाना साधा

अखिलेश मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, “ मोदी सरकार ने देश की जनता को गुमराह किया है। नोटबंदी को लेकर मोदी ने कहा था, नोटबंदी से भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा। विदेशों में रखा हुआ कालाधन वापस देश में आ जाएगा, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। नोटबंदी से देश की अर्थव्यवस्था चर्मरा गई है। नोटबंदी से 1.2 प्रतिशत जीडीपी के बराबर नुकसान हुआ है। भाजपा सरकार ने नौकरी देना तो दूर, नौकरी छीन ली है। लाखों युवा बेरोजगार हो गए हैं। केंद्र में बैठी मोदी सरकार के तीन साल पूरे हो गए हैं, लेकिन चुनाव के दौरान किए गए एक भी वादे को उसने पूरा नहीं किया है। केंद्र सरकार से त्रस्त हो चुकी है। जनता अपने को ठगा सा महसूस कर रही है।” भाजपा बहकावे की राजनीति करती है और आने वाले दिनो में भी करेगी, देश और प्रदेश की जनता को सावधान रहने की जरुरत है।

पोस्टर-बैनर से पटा रहा रमाबाई मैदान।

बुलेट ट्रेन योजना पर कसा तंज

मोदी सरकार द्वारा बुलेट ट्रेन चलाने की योजना पर भी अखिलेश ने तंज कसे। उन्होंने कहा, “ देश की सबसे ज्यादा आबादी लखनऊ से बंगाल के बीच रहती है। अगर अहमदाबाद से मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन चली रही है तो कम से कम कोई ट्रेन लखनऊ से कोलकाता के बीच चला दो। मगर जिस तरीके से आपकी ट्रेन चल रही है, किसी को भरोसा नहीं है कि ट्रेन कब पलट जाए, कब पटरी से उतर जाए। गुजारत और महाराष्ट्र तो पहले से ही विकसित हैं। सबसे ज्यादा विकास की जरूरत यूपी को है।”

भाजपा की नीतियां किसान विरोधी

प्रदेश का किसान बेहाल हो चुका है। किसानों के साथ भाजपा ने बहुत बड़ा मजाक किया है। किसानों के कर्जमाफी के चुनावी वादे को पूरा करने की जगह अब सीमांत किसानों के सिर्फ एक लाख रुपए तक के कर्ज माफ किए जा रहे हैं। कर्जमाफी के नाम पर किसानों को पांच-पांच रुपए के प्रमाण पत्र दिए जा रहे हैं। सपा ने पांच लाख रुपए कृषक दुर्घटना बीमा योजना शुरू की थी। सपा सरकार में शुरू हुई कई योजनाएं बंद पड़ी हैं। भाजपा की नीतियां किसान विरोधी हैं। हमने समाजवादी पेंशन शुरू किया था, लेकिन इस सरकार ने उसको भी बंद कर दिया।

ये भी पढ़ें- अखिलेश ने गिनाईं सपा सरकार की उपलब्धियां, योगी सरकार के श्वेत पत्र के बाद दिया जवाब

बड़े पैमाने पर लोग सपा की तरफ देख रहे

सपा अध्यक्ष ने कहा, धर्मनिरपेक्ष राजनीति का रास्ता ही समाजवादियों का लक्ष्य रहा है। आज बड़े पैमाने पर लोग सपा की तरफ देख रहे हैं। अखिलेश ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव की तैयारियों में जुटने का आह्वान करते हुए कहा, आने वाले समय में चुनाव का परिणाम जब आपके पक्ष में होगा तो वह संदेश केवल वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के लिये ही नहीं, बल्कि 2022 के विधानसभा चुनाव के लिये भी होगा। आपको पूरी ईमानदारी और मेहनत से जनता के बीच जाकर भाजपा सरकार की नाकामियों को बताना होगा। अखिलेश ने गोरखपुर में ऑक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत पर भी योगी सरकार को निशाने पर लिया। योगी सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया।

राज्य सम्मेलन में हजारों की संख्या में पहुंचे सपाई।

सांप्रदायिकता की आग से बचने की जरूरत

सम्मेलन में आजम खान ने भी मोदी पर जमकर शब्दबाण चलाए। उन्होंने कहा, “ अभी वजीरे आला ने कहा किन छह महीने में कोई दंगा नहीं हुआ है। ये सबूत है कि गुजरात से लेकर मुजफ्फरनगर तक दंगा कराने वाले भी तुम थे आऔर रोकने वाले भी तुम ही थे। सांप्रदायिकता की आग 2019 से पहले ऐसे आ सकती है कि कोई नहीं बचेगा। ये घात लगा कर बैठे हैं।” मेरे बारे में कोई गलतफहमी न रखें। भाजपा वाले हिन्दू, मुसलमान, सिख और ईसाई को बांटने की राजनीति करते हैं। आजम खान ने चेतावनी देते हुए कहा, कहीं ऐसा न हो, कल हिंदुस्तान में हमारी हालत रोहिंग्या मुस्लिमों जैसी हो जाए। हम छोटे फायदे के लिए ज़मीर का सौदा करने वाले नहीं हैं। हम अपने कातिल को कातिल समझते हैं, दोस्त नहीं बनाते हैं। हमारे सामने चुनौतियां बहुत हैं। हमें डटकर इनका सामना करना है और एक बार फिर सपा की सरकार बनानी है। आस्तीन के सांपों से बचकर रहने की जरुरत है।

ये भी पढ़ें-अखिलेश यादव ने कहा- लगता है कि मुझे उत्तर प्रदेश छोड़कर आंध्र प्रदेश में बसना होगा

भाजपा ने कृषि के क्षेत्र में कुछ नहीं किया

सम्मेलन के समापन भाषण में प्रो.रामोपाल यादव ने सपा कार्यकर्ताओं को अनुशासन में रहने की हिदायत दी। उन्होंने कहा,“ कुछ कार्यकर्ता नेता को देखते ही नारे लगाने लगते हैं। नारे लगाने से सरकार नहीं बनती है। तुम लोग भी एक आईटी सेल बना लो और भाजपा जो झूठे प्रचार करती है उस झूठ को आम जनता तक पहुंचाओ।” उन्होंने आगे कहा, केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार ने कृषि के क्षेत्र में कुछ नहीं किया है। हमारे देश की उपज कम हो रही है। हमारे देश में फूड प्रोसेसिंग की कोई व्यवस्था नहीं है। हमारे देश में हर साल पचास हजार करोड़ रुपए की सब्जियां, फल और मांस सही तरीके से संरक्षित नहीं करने के अभाव में सड़ जाते हैं। किसान को उसकी उपज का सही दाम नहीं मिल रहा है। किसान आत्महत्या करने का मजबूर है।

वहीं इस अवसर पर मंच पर किरणमय नंदा, रामगोविंद चौधरी, राजेंद्र चौधरी, माता प्रसाद पांडेय, अहमद हसन, उदय प्रताप सिंह, अतुल प्रधान समेत कई वरिष्ठ सपा नेता मौजूद रहे।

संबंधित ख़बरें-

दिल्ली में भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक कल, कई गरमागरम मुद्दों पर होगा मंथन

तस्वीरों में देखिये समाजवादी पार्टी का राज्य सम्मेलन

Share it
Top