गुरुग्राम: 'जय श्री राम' नहीं बोलने पर युवक की पिटाई, गौतम गंभीर ने ट्वीट कर कही बड़ी बात

गुरुग्राम के सदर बाजार स्थित जामा मस्जिद में शनिवार रात नमाज पढ़कर आ रहे एक युवक को रोककर नशे में धुत शरारती तत्वों ने उसके टोपी पहनने पर टिप्पणी की और कथित तौर पर भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगाने के लिए कहा।

गुरुग्राम:

लखनऊ। पूर्वी दिल्ली से नवनर्विाचित सांसद गौतम गंभीर ने गुरुग्राम में एक मुस्लिम व्यक्ति पर हुए कथित हमले की घटना को सोमवार को निंदनीय करार दिया। उन्‍होंने प्रशासन से इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने की भी अपील की है। गंभीर ने ट्वीट किया कि धर्मनिरपेक्षता पर मेरे विचार माननीय पीएम मोदी के मंत्र "सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास" से निकलते हैं। मैं खुद इसको गुरुग्राम की घटना तक सीमित नहीं कर रहा हूं, जाति / धर्म पर आधारित कोई भी उत्पीड़न घृणित है। सहिष्णुता और समावेशी विकास भारत के विचार पर आधारित है।

ये भी पढ़ें- मोदी जी ये 10 काम करके आप वोट के लिए किसानों को दे सकते हैं धन्यवाद

उन्‍होंने एक और ट्वीट करते हुए कहा कि गुरुग्राम में एक मुस्लिम व्यक्ति से टोपी उतारने, जय श्री राम का उद्घोष करने को कहा गया। यह निंदनीय है। गुरुग्राम अधिकारियों को ऐसी कार्रवाई करनी चाहिए जो एक मिसाल हो। हमारा राष्ट्र धर्मनिरपेक्ष है, जहां जावेद अख्तर लिखते हैं "ओ पालन हारे, निर्गुण और नयारे" और राकेश मेहरा ने दिल्ली 6 फिल्‍म में "अर्ज़ियाँ" जैसे गीत लिखें।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार गुरुग्राम के सदर बाजार स्थित जामा मस्जिद में शनिवार रात नमाज पढ़कर आ रहे एक युवक को रोककर नशे में धुत शरारती तत्वों ने उसके टोपी पहनने पर टिप्पणी की और कथित तौर पर भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगाने के लिए कहा। मना करने पर उससे मारपीट की और टोपी फेंक दी। युवक की पिटाई के बाद हल्‍ला सुनकर बड़ी संख्या में लोग मौके पर एकत्रित हुए तो आरोपी मौके से फरार हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस व अधिकारियों ने लोगों को शांत कराकर कार्रवाई करने के बात कही।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top