कोरोना मरीजों के लिए सरकार की नई गाइडलाइन, हल्के लक्षण वाले मरीजों के लिए होम आइसोलेशन

कोराना मरीज के फोन में आरोग्य सेतु ऐप इनस्टाल होना चाहिए और वह हमेशा ऐक्टिव रहना चाहिए। मरीज को हमेशा तीन परतों वाला मास्क पहनना होगा। यह मास्क हर 8 घंटे में बदला जाएगा।

कोरोना मरीजों के लिए सरकार की नई गाइडलाइन, हल्के लक्षण वाले मरीजों के लिए होम आइसोलेशन

स्वास्थ्य मंत्रालाय ने कोरोना मरीजों के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। इस गाइडलाइन के अनुसार कोरोना के ऐसे मरीज जिनमें बहुत ही कम या ना के बराबर लक्षण हैं, उन्हें होम आइसोलेशन में जाने की अनुमति होगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि कोरोना के जो नए मरीज सामने आ रहे हैं, उनमें कोरोना का बहुत ही कम लक्षण दिखाई दे रहा है।

अस्पतालों और स्वास्थ्य कर्मियों पर भार कम करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह निर्णय लिया है। इस गाइडलाइन के अनुसार, मरीज को अपने घर में ही एकदम से अलग-थलग रहना होगा, परिवार के लोग भी मरीज के संपर्क में नहीं रहेंगे। हालांकि मरीज की देखभाल के लिए हमेशा एक व्यक्ति 24 घंटे उसके आस-पास मौजूद होना चाहिए जो डॉक्टर से भी संपर्क में रहे।

कोराना मरीज के फोन में आरोग्य सेतु ऐप इनस्टाल होना चाहिए और वह हमेशा ऐक्टिव रहना चाहिए। मरीज को हमेशा तीन परतों वाला मास्क पहनना होगा। यह मास्क हर 8 घंटे में बदला जाएगा। प्रयोग हो चुके मास्क को नष्ट करने के लिए 1% सोडियम हाइपो-क्लोराइट का प्रयोग करना होगा और लगातार हाथ धोना और हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना होगा। इसके अलावा मेज, कुर्सी और गेट के हैंडल को भी लगातार साफ करना होगा।

मरीज को लगभग 17 से 20 दिनों तक होम आइसोलेशन में रहना होगा। इसके बाद मरीज की दोबारा टेस्टिंग होगी। 10 दिन के अंदर बुखार, सर्दी और खांसी का लक्षण दिखने पर मरीज को टेस्ट के साथ फिर से होम आइसोलेट होना होगा। मरीज का देखभाल करने वालों को भी हमेशा मास्क पहने रखना होगा। इसके अलावा उन्हें अपना हाथ लगातार सैनिटाइज करते रहना होगा।

वर्ल्ड कोरोना मीटर के अनुसार भारत में कोरोना के अब तक 67,259 मरीज हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में 4451 नए मरीज कोरोना के आए हैं, वहीं पिछले एक दिन में कुल 111 मरीजों की कोरोना से मौत हुई है। भारत में कोरोना से मरने वालों की संख्या 2212 है जबकि 20,969 लोग इससे ठीक होकर घर जा चुके हैं।


ये भी पढ़ें-कोरोना और किसान: वीएम सिंह बता रहे हैं लॉकडाउन से हो रहे नुकसान की भरपाई कैसे हो?


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.