तेलंगाना: वन विभाग की महिला अधिकारी पर विधायक के भाई का हमला, गिरफ्तार

तेलंगाना के कोमराम भीम असिफाबाद जिले के सिरपुर विधायक कोनेरू कोनप्पा के भाई कोनेरू कृष्णा राव की अगुवाई में कुछ लोगों ने वन रेंज अधिकारी सी अनीता पर हमला किया, जिसमें वह घायल हो गईं। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहा है।

तेलंगाना: वन विभाग की महिला अधिकारी पर विधायक के भाई का हमला, गिरफ्तार

लखनऊ। तेलंगाना के असिफाबाद जिले में सत्ताधारी टीआरएस पार्टी के विधायक के भाई ने वन विभाग की एक महिला अधिकारी पर हमला कर दिया, जिसमें महिला अधिकारी घायल हो गईं। घायल महिला अधिकारी का अस्पताल में ईलाज चल रहा है जबकि विधायक के भाई और हमला करने वाले उनके अन्य साथियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

तेलंगाना के कोमराम भीम असिफाबाद जिले के सिरपुर विधायक कोनेरू कोनप्पा के भाई कोनेरू कृष्णा राव की अगुवाई में कुछ लोगों ने वन रेंज अधिकारी सी अनीता पर हमला किया, जिसमें वह घायल हो गईं। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहा है।

वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने कदम उठाते हुए कोनेरु कृष्ण राव और 13 अन्य को हत्या के प्रयास और उपद्रव मचाने की धारा लगाते हुए गिरफ्तार कर लिया है। वीडियो वायरल होने से पहले पुलिस कार्रवाई करने में रूक रही थी।

पुलिस ने जानकारी देते हुए कहा कि इस मामले में कागजनगर के पुलिस उपाधीक्षक सांबिया और निरीक्षक वेंकटेश को लापरवाही बरतने के लिए निलंबित कर दिया गया है। तेलंगाना राष्ट्र समिति के कार्यकारी अध्यक्ष के टी रामा राव ने हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं है। कृष्णा राव को जिला परिषद की सदस्यता से हटा दिया गया है।

जबकि विपक्षी कांग्रेस और भाजपा ने के चंद्रशेखर सरकार की आलोचना की। भाजपा प्रवक्ता कृष्ण सागर राव ने दावा किया कि हमला राज्य में कानून-व्यवस्था की नाकामी को दिखाता है पुलिस अधीक्षक मल्ला रेड्डी ने बताया कि इस घटना के संबंध में में कृष्ण राव को गिरफ्तार किया गया है और उन पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हमले में वन अधिकारी अनिता को चोट लगी है और वह अस्पताल में भर्ती हैं। उन्होंने बताया कि सरकार की हरित योजना के तहत अनिता सारसाला गांव में पौधे लगाने गई थीं। इस दौरान जिला परिषद के सदस्य कृष्णा राव के नेतृत्व में गांव के कुछ लोगों ने जमीन पर अपना मालिकाना हक होने का दावा करते हुए उन पर लाठियों से हमला कर दिया। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि अनिता हमले से बचने के लिए ट्रैक्टर पर चढ़ रही हैं और कृष्ण तथा गांव के अन्य लोग ट्रैक्टर पर भी हमला कर रहे हैं।

तेलंगाना के प्रधान मुख्य वन संरक्षक पी. के. झा ने कहा कि अधिकारी जिस जमीन पर पौधे लगा रहे थे, वह वन विभाग की भूमि है। विधायक को भी इस संबंध में सूचना दे दी गई थी। उन्होंने कहा कि विभाग उच्च स्तर पर इस मामले को गंभीरता से उठाएगा। पी. के. झा ने बताया कि वन विभाग की इस जमीन पर पहले भी कब्जा करने की कोशिश की गई थी। लेकिन उस वक्त हमारे लोगों ने उसे खाली करा लिया था।

केंद्र ने लिया संज्ञान

केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मामले की आलोचना की। जावड़ेकर कहा कि इस तरह की घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जावड़ेकर ने सोमवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान पूरक सवालों के जवाब में कहा कि मंत्रालय ने इस घटना को गंभीरता से लिया है और इस तरह की स्थिति को भविष्य में रोकने के लिये हर संभव कदम उठाये जायेंगे।

यह भी पढें- तेलंगाना में नगर निगम कर्मियों ने 100 कुत्तों को जहर देकर मारा, चार कर्मचारी निलंबित

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top