Top

25 फीट ऊंचाई पर दुकान सजा दुकानदार दे रहा कोरोना से बचाव का संदेश

रामासरे चाहते हैं कि लोग उनके सामान को ना छुएं और वह सामानों से उचित दूरी बनाए रखें। वह चाहते हैं कि बिना मास्क लगाए कोई भी उनकी दुकान पर ना आएं। इतनी ऊंचाई पर सामान टांगने के सवाल पर वह कहते हैं कि बच्चे सामान सबसे अधिक छूते हैं, उन्हे ना ही मारा जा सकता है और ना ही डांटा जा सकता है, उन्हें बस समझाया जा सकता है।

Ramji MishraRamji Mishra   18 July 2020 4:54 AM GMT

रामासरे बाजपेई की दुकान पर जो भी आता है वह काफी हैरान रह जाता है। दरअसल उनकी दुकान पर कई सामानें कई फीट ऊँचाई पर टंगी हैं। सीतापुर जिले के ब्रम्हावली गाँव के रामासरे बाजपेई कहते हैं कि बच्चों की आदत होती है वह हर सामान को छूने की कोशिश करते हैं ऐसे में यह जरूरी है कि उन्हें इस तरीके से समझाया जाए। इसके साथ ही लोग भी उनकी दुकान पर मास्क लगाकर आएं, इसको लेकर भी वह लोगों का जागरूक करते हैं। कोरोना बीमारी से बचाव का संदेश देने के लिए यह तरीका अब क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।

जागरूक करने का अजब गजब तरीका

रामासरे चाहते हैं कि लोग उनके सामान को ना छुएं और वह सामानों से उचित दूरी बनाए रखें। वह चाहते हैं कि बिना मास्क लगाए कोई भी उनकी दुकान पर ना आएं। इतनी ऊंचाई पर सामान टांगने के सवाल पर वह कहते हैं कि बच्चे सामान सबसे अधिक छूते हैं, उन्हे ना ही मारा जा सकता है और ना ही डांटा जा सकता है, उन्हें बस समझाया जा सकता है। ऐसे में ऐसा करके वह एक संदेश देने की कोशिश कर रहे हैं। वह कहते हैं कि वह अपने लिए नहीं सबके लिए कर रहे हैं।


रामासरे का यह उपाय अब आस-पास के लोगों में चर्चा का विषय बन चुका है। कोई इसे देखकर हंसता है तो कोई रामआसरे की इन उपायों की तारीफ भी करता है। ऐसे ही एक ग्राहक संदीप मिश्रा कहते हैं, "कौन कहां से आकर दुकान का सामान छू दे, यह कौन जानता है। इसलिए रामासरे जी जो कर रहे हैं वह काबिले तारीफ है। लोगों का जागरूक करके वह सरकार की भी मदद कर रहे हैं।"

रामासरे कहते हैं कि कुछ लोग इसे तमाशा समझकर देखने आते हैं और हंसते हैं। लेकिन जिसे जो समझना है वह समझने दिजिए। इतना कहकर रामासरे मुस्कुरा देते हैं।

ये भी पढ़ें- कोरोना काल में फीकी पड़ी रामपुर के खुरचन की मिठास

मध्य प्रदेश: कोरोना काल में कमजोर हुई कुपोषण से जंग, पोषण पुनर्वास केंद्र पर नहीं पहुंच रहे बच्चे


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.