Top

खेती की पढ़ाई के लिए करें आवेदन, उत्तर प्रदेश के कृषि विश्वविद्यालयों में शुरु हुई प्रवेश प्रक्रिया

खेती की पढ़ाई के लिए करें आवेदन, उत्तर प्रदेश के कृषि विश्वविद्यालयों में शुरु हुई प्रवेश प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश संयुक्त कृषि एवं प्रौद्योगिकी प्रवेश परीक्षा (UPCATET 2020) के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। इस परीक्षा में सफल होकर आप उत्तर प्रदेश के चार कृषि विश्वविद्यालयों के कोर्सेज बी.एससी. (कृषि), एम.एससी. (कृषि) और पीएचडी (कृषि) में प्रवेश ले सकते हैं। चन्द्र शेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कानपुर द्वारा आयोजित हो रही प्रवेश परीक्षा की यह प्रक्रिया 20 फरवरी से शुरु हुई है।

आप उत्तर प्रदेश संयुक्त कृषि एवं प्रौद्योगिकी प्रवेश परीक्षा की वेबसाइट https://www.upcatet.org/ पर जाकर अपना फॉर्म भर सकते हैं। फॉर्म भरने की आखिरी तारीख 31 मार्च है, जबकि ऑनलाइन फीस जमा करने की अंतिम तारीख एक अप्रैल है। अगर आपके आवेदन पत्र में कुछ गलती हो गई है, तो संशोधन के तहत दो से छह अप्रैल तक आप अपने फॉर्म में संशोधन कर सकते हैं।

इस प्रवेश परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र एक मई से डाउनलोड हो सकेगा। अलग-अलग पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश परीक्षा 14, 15 और 16 मई को आयोजित होगी। इस प्रवेश परीक्षा का परिणाम 31 मई को घोषित होगा। प्रवेश परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों की ऑनलाइन काउंसलिंग होगी। यह काउंसलिंग जून और जुलाई माह में होगी, जिसके लिए फीस और रजिस्ट्रेशन तीन से आठ जून तक किए जाएंगे। पूरा परीक्षा कार्यक्रम यहां पढ़ें


इस प्रवेश परीक्षा के माध्यम से उत्तर प्रदेश के चार विश्वविद्यालयों की कुल 2638 सीटों पर प्रवेश होगा। अंडर ग्रेजुएट की 1655, पोस्ट ग्रेजुएट की 687 और पीएचडी की 296 सीटों पर प्रवेश यूपीकैटेट 2020 परीक्षा के माध्यम से हो सकेगा। पिछले साल 2638 सीटों के लिए फैजाबाद के आचार्य नरेंद्र देव यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर एंड टेक्नोलॉजी द्वारा यह परीक्षा आयोजित कराई गई थी, जिसमें 20851 छात्रों ने फार्म भरा था।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में चार कृषि विश्वविद्यालय है, जिसमें कानपुर का चन्द्र शेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, अयोध्या का आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, मेरठ का सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय और बांदा का बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय शामिल है।

ये भी पढ़ें- कृषि स्नातक ऐसे शुरू कर सकते हैं एग्री जंक्शन

वीडियो: बरेली का ये किसान हजारों किसानों को दे रहा मेंथा की जैविक खेती का प्रशिक्षण


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.