रोबोटिक्स में संवारें अपना भविष्य

रोबोटिक्स में संवारें अपना भविष्यgaon connection

लखनऊ। बदलते जमाने के साथ जहां रहन सहन बदला वहीं पढ़ाई के कोर्स भी बदले। पहले की तरह छात्रों के पास सिर्फ स्नातक का ही विकल्प नहीं दूसरे कई विकल्प हैं जिनसे वो अपना भविष्य संवार सकते हैं। पारंपरिक इंजीनियरिंग डिग्री के अलावा अब आधुनिक कोर्स भी चलन में है। ऐसे में रोबोटिक्स, करियर और वेतन के मामले में बेहतरीन कोर्स साबित हो सकता है।

रोबोटिक्स क्या है

यह एक ऑोटोमेटिक मैकेनिकल डिवाइस है, जो कंप्यूटर प्रोग्राम या इलेक्ट्रॉनिक मशीनों की मदद से वो काम करता है जिसे आप असाइन करते हैं। यह एक ऐसा सिस्टम है जिसमें सेंसर्स, कंट्रोल सिस्टम, मेनुपुलेटर्स, पावर सप्लाई और सॉफ्टवेयर सभी चीजें होती हैं। रोबोटिक्स में अगर स्टडी की बात करें तो यह मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस का एक हिस्सा होता है। इन इंजीनियरिंग के ब्रांच में रोबोट के डिजाइन, कंस्ट्रक्शन, पावर सप्लाई, इंफोर्मेशन प्रोसेसिंग और सॉफ्टवेयर पर काम होता है।

शैक्षिक योग्यता

साइंस स्ट्रीम में 12वीं पास करने वाले उम्मीदवार मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर साइंस जैसे कोर्सेज में इसकी पढ़ाई कर सकते हैं। वहीं बैचलर डिग्री हासिल करने के बाद रोबोटिक्स में मास्टर कर सकते हैं।

कॅरियर बनाने के अवसर

इस क्षेत्र के उम्मीदवारों को नासा, प्राइवेट इंडस्ट्रीज, ऑटोमोबाइल्स और इंडस्ट्रीयल टूल्स में जॉब मिलने की उम्मीद रहती है। वे छात्र जिन्होंने रोबोटिक्स टेक्नोलॉजी की पढ़ाई टेक्निकल स्कूल या कॉलेज से किया है वे रोबोट टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर कंट्रोल्ड मशीन प्रोग्रामिंग, रोबोटिक सेल्स में भी नौकरी पा सकते हैं। अगर आपने इस फील्ड के कौशल को अच्छे से सीखा है तो आपकी शुरुआती सैलरी 50 हजार से 1 लाख तक के बीच हो सकती है।

रोबोटिक्स में भविष्य

इस क्षेत्र में छात्रों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, कंप्यूटर एडेड मैन्यूफैक्चरिंग, कंप्यूटर, इंटिग्रेटेड मैन्यूफैक्चरिंग सिस्टम, कंप्यूटर ज्योमेट्री, रोबोट मोशन प्लानिंग, डिजीटल इलेक्ट्रॉनिक्स और माइक्रो प्रोसेसिंग में ट्रेन किया जाता है। आधुनिक समय में रोबोट से काम करवाना मनुष्य की जरूरत भी है। रोबोट का उपयोग भारीभरकम काम कराने या न्यूक्लियर कचड़ों को निपटाने के लिए किया जाता है।

Tags:    India 
Share it
Top