सामाजिक कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने चलाई लाठी

सामाजिक कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने चलाई लाठीgaonconnection

लखनऊ। समान शिक्षा प्रणाली को लागू करवाने और सरकारी अधिकारियों-कर्मचारियों के बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के हाईकोर्ट के आदेश को लागू कराने के लिए पिछले काफी समय से संघर्षरत सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के कार्यकर्ताओं और समाजिक कायकर्ताओं के समूह के साथ पुलिस ने बुधवार को उस लाठीचार्ज कर दिया जब वह अपनी मांगों की आवाज उठाते हुए मुख्यमंत्री आवास की ओर बढ़ रहे थे।

पुलिस के लाठीचार्ज से जहां कई लोग चोटिल हो गये तो वहीं प्रदर्शन में शामिल हरदोइया गाँव की निवासी गुड्डी की बाली भी खिंच गई। गुड्डी को बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसके कान में टाके लगाये गये हैं। 

सामाजिक कार्यकर्ता और सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के राज्य प्रवक्ता शरद पटेल ने बताया कि हम लोग इस बर्बरतापूर्ण घटना के लिए थाने में शिकायत दर्ज करवाएंगे। उन्होंने बताया कि इस घटना का विरोध जताने के लिए सामाजिक कार्यकर्ताओं का एक समूह गुरुवार को दोपहर 12 बजे विरोध प्रदर्शन करेगा। 

उधर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के जस्टिस सुधीर अग्रवाल के 18 अगस्त 2015 के आदेश, कि सरकार से वेतन पाने वाले और जन प्रतिनिधियों के बच्चे अनिवार्य रूप से सरकारी स्कूल में पढ़ें, को लागू करवाने की मांग को लेकर पिछले 10 दिनों से अनशन कर रहे सामाजिक कार्यकर्ता और सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ संदीप पाण्डेय ने अपने साथियों के दबाव के चलते अपना अनशन समाप्त कर दिया। 

अनशन समाप्ति से पहले अनशन स्थल गांधी प्रतिमा पहुंची आगामी उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव 2017 में समाजवादी पार्टी की लखनऊ पूर्व की प्रत्याशी श्वेता सिंह ने फोन पर संदीप की बात सपा मुखिया मुलायम सिंह से करवाई। संदीप के अनुसार मुलायम सिंह यादव ने उनसे कहा है कि मैं दिल्ली से वापस आकर आपसे इस मुद्दे पर बात करूंगा। 

मुलायम सिंह से फोन पर बात होने के बाद एक बच्ची, आम आदमी पार्टी के विधायक पंकज पुष्कर, बहुजन समाज पार्टी के नेता ब्रजेश पाठक और समाजवादी पार्टी की लखनऊ पूर्व की प्रत्याशी श्वेता सिंह के हाथों से फल रस पी कर डॉ संदीप पाण्डेय ने अपना अनशन 10 दिन के बाद समाप्त किया।

Tags:    India 
Share it
Top