दागी इंजीनियर, ठेकेदारों को गडकरी संरक्षण दे रहे हैं?

दागी इंजीनियर, ठेकेदारों को गडकरी संरक्षण दे रहे हैं?प्रतीकात्मक: तस्वीर

नरेन्द्र मोदी के इन तीन सालों को ‘भ्रष्टाचार-मु्क्त’ और ‘विकास-उन्मुख’ सरकार के तौर पर खूब सराहा जा रहा है। हालांकि, प्रधानमंत्री को इस खुशी में शायद यह नहीं पता चल पा रहा कि किस तरह उनके कुछ सहयोगी कैबिनेट मंत्रियों द्वारा भ्रष्टाचार को संरक्षण दिया जा रहा है।सबसे ज्यादा चिंता तो केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की है, जिनके द्वारा कई बार विवादास्पद अभियंताओं और ठेकेदारों को तरह-तरह से सरंक्षण दिया गया है।

पांच अप्रैल को, गडकरी ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह को पत्र लिखा और उन्होंने 250 करोड़ रुपये के सड़क घोटाले की सीबीआई जांच की सिफारिश को वापस लेने की सलाह दी। इतना ही नहीं, ऐसा न करने पर गडकरी ने उत्तराखंड की नई सड़क परियोजनाओं को रुकवा देने की धमकी दे डाली और उनकी इस धमकी का असर यह हुआ है कि उत्तराखंड के सीएम अभी से ही अपने द्वारा दी गई सीबीआई जांच की सिफारिश पर पुनर्विचार करने पर मजबूर हो गए हैं।

दिनांक 5 अप्रैल, 2017 का पत्र न0 : 4097/ MIN/RT&H/VIP /2017 कुछ इस तरह था, “सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने बड़े पैमाने पर राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क का बड़े पैमाने पर उन्नयन किया है और हमने उत्तराखंड में विशेष रूप से जुड़ने वाली चार धाम परियोजना पर विशेष ध्यान दिया है। हालांकि, मैं राज्य में हाल की घटनाओं के बारे में बहुत चिंतित हूं: सबसे पहली तो यह है जो एफआईआर उधम सिंह नगर वाली जिला प्रशासन ने विशेष भूमि अधिग्रहण अधिकारी के अवार्ड्स के लिए सुनिश्चित की थी, जो राज्य का राजस्व अधिकारी है। इतना ही नहीं, एनएचएआई के अधिकारियों की जांच के लिए भी उत्तराखंड सरकार द्वारा सीबीआई जांच का भी आदेश दिया गया है।” पत्र में आगे कहा गया है, “उत्तराखंड सरकार द्वारा उपरोक्त कार्रवाई अधिकारियों के मनोबल पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है।

परियोजनाओं के निष्पादन में बाधा आएगी। इस पृष्ठभूमि में, अब हमें राज्य में अधिक परियोजनाओं का पुन: परीक्षण करना होगा। मुझे यकीन है कि आप इन मुद्दों के महत्व की सराहना करेंगे जो मैंने यहां इंगित कीं हैं और इस गतिरोध को हल करने के लिए तत्काल सुधारात्मक कार्रवाई करेंगे।”

जब इस बारे में उत्तराखंड के सीएम से पत्रकारों ने सवाल किया तो 25 मई को उन्होंने कहा कि सीबीआई जांच के मामले कानूनी राय लेंगे। जो कि स्पष्ट करता है कि परोक्ष गडकरी के पत्र में दी गई धमकी का कितना असर हुआ है। वैसे त्रिवेन्द्र सिंह बहुत साफ छवि के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन गडकरी के दबाव में उन्हें ऐसा करना पड़ रहा है। जाहिर है कि सीनियर इसी कारण घोटाले का पर्दाफाश करने के प्रयास मिट्टी में मिल गए।

मुख्यमंत्री ने नैनीताल मंडल आयुक्त सेंथिल पांडियन द्वारा किए गए प्रारंभिक जांच के आधार पर एक सीबीआई जांच की सिफारिश की थी, जिसने नए राष्ट्रीय राजमार्ग (राष्ट्रीय राजमार्ग -74) को बिछाने के उद्देश्य से निजी भूमि के अधिग्रहण से संबंधित कार्य में बड़े पैमाने पर वित्तीय घोटाले का पता लगाया था। । उन्होंने इस मामले को सीबीआई को सौंपने की आवश्यकता महसूस की थी,क्योंकि राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) प्रदेश सरकार के दायरे में नहीं आता है।

पांडियन की रिपोर्ट के अनुसार, एनएचएआई के अधिकारियों ने राज्य के अधिकारियों के साथ मिलकर राजमार्ग के लिए अधिग्रहीत भूमि के लिए कीमत से कई गुना ज्यादा मुआवजा दिया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि जमीन के रिकार्डों को देखते हुए, कृषि भूमि की मात्रा को “गैर-कृषि” के रूप में दिखाया गया था जिसके लिए मालिकों को 10-20 गुना अधिक मुआवज़ा दिया गया था।

लेकिन गडकरी के पत्र को प्राप्त करने के तुरंत बाद ही त्रिवेन्द्र सिंह उनसे वार्तालाप करने के लिए दिल्ली चले गए। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने इसके बाद राज्य के महाधिवक्ता से सीबीआई जांच पर राय मांगी। अधिकतर महाधिवक्ताओं की राय वही होती है जो सीएम चाहते हैं। गौरतलब है कि यह पहली बार नहीं था कि नितिन गडकरी विवादास्पद बिल्डरों और ठेकेदारों के गलत कामों की पैरवी कर रहे हैं।

यहां तक कि जब गडकरी भाजपा अध्यक्ष थे तब भी उन्होंने ऐसा ही कुछ किया था, जब उन्होंने गोसीखुर्द बांध में महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के निर्माण में लगे 70,000 करोड़ पर एक विवादास्पद ठेकेदार को भारी भुगतान जारी करने के लिए दबाव डाला था। 30 जुलाई 2012 को एक पत्र के माध्यम से, गडकरी ने तत्कालीन जल संसाधन मंत्री पवन कुमार बंसल से इस बात की सिफारिश की थी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

First Published: 2017-06-05 14:40:46.0

Share it
Share it
Share it
Top