सौहार्द के द्वार हैं देवा शरीफ, रामदेवरा, पोवा मक्का

सौहार्द के द्वार हैं देवा शरीफ, रामदेवरा, पोवा मक्काgaonconnection

नई दिल्ली (भाषा)। उत्तर प्रदेश में देवा शरीफ, राजस्थान में रामदेवरा और असम में पोवा मक्का के बीच क्या समानता है? भले ही इन स्थानों के बारे में बहुत अधिक लोग नहीं जानते लेकिन सभी धर्मों में आस्था रखने वाले लोग सदियों से शांति, सहिष्णुता और सौहार्द के प्रतीक इन स्थानों पर बार-बार जाते रहे हैं। 

लखनऊ से एक घंटे की यात्रा कर कई धर्मों के लोग बाराबंकी में हाजी वारिस अली शाह की दरगाह देवा शरीफ जाते हैं। इक्वेटर लाइन पत्रिका के ताजा अंक में ‘दि सूफी आफ देवा' शीर्षक से लिखे एक लेख में बताया गया है, ‘‘ इस जगह का वातावरण उदार है।

लोग फूलों, मिठाइयों और रंग-बिरंगी चादरों के साथ इस सूफी संत की दरगाह पर आते हैं।'' ऐसा कहा जाता है कि शाह ने अपने अनुयायियों को कभी भी अपना धर्म छोड़ने को नहीं कहा और यही वजह है कि यहां हिंदू श्रद्धालु मत्था टेकने आते हैं। इस दरगाह की आधारशिला कन्हैया लाल ने रखी और इसके बाद कई और हिंदू लोग आगे आए। आज यहां हिंदू और मुस्लिम बराबर की संख्या में आते हैं।

पोखरण से करीब 12 किलोमीटर दूर रामदेवरा का स्थान हिंदू और मुस्लिम दोनों के लिए ही पवित्र जगह है। ‘‘रामदेवरा, बाबा रामदेव या रामशा पीर का समाधि स्थल है और यह देश में संभवत: अकेला ऐसा मंदिर है जहां श्रद्धालुओं का पहेलीनुमा संगम होता है।''

‘‘इस मंदिर की सबसे अजीब ख़ूबी इसके भीतर कई मजार हैं। ये उन लोगों की मजारें हैं जो बाबा रामदेव के बेहद करीब थे।'' असम के गुवाहाटी में पोवा मक्का, सूफी संत पीर गियासुद्दीन औलिया की गद्दी है। ‘‘इस मस्ज़िद की आधारशिला रखने के लिए मक्का से मिट्टी लाई गई थी। स्थानीय लोगों का मानना है कि इस मजार पर आने से मक्का में हज करने जैसा फल मिलता है। हिंदू, मुस्लिम और बौद्ध लोग इस पवित्र स्थान पर आते हैं।''

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top