खोजा गया शब्द : बुंदेलखंड
बुंदेलखंड के बांदा में 193 किसानों को मिला ओलावृष्टि का मुआवजा  
उत्तर प्रदेश

बुंदेलखंड के बांदा में 193 किसानों को मिला ओलावृष्टि का मुआवजा  

उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड के बांदा जिले में ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा जिलाधिकारी ने शुक्रवार को सदर तहसील के चमरहा गांव में बांटा। पहले दिन 193 किसानों के बीच 15, लाख 22 हजार रुपए ई-पेमेंट के जरिए दिए गए।

‘डेढ़ सौ वर्षों से बदल रही है बुंदेलखंड की मिट्टी’
उत्तर प्रदेश

‘डेढ़ सौ वर्षों से बदल रही है बुंदेलखंड की मिट्टी’

बुंदेलखंड की उत्पादन और मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी को लेकर बांदा कृषि एवं प्रोद्योगिकी विश्वविद्यालय में मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन में विज्ञान के सहायक प्रोफेसर डॉ. देव कुमार से बात की गाँव कनेक्शन के शेखर उपाध्याय ने।

बुंदेलखंड के ज्ञासी अहिरवार ने 20 किलो खाद से काम शुरू कर खड़ा किया करोड़ों रुपए का कारोबार
गाँव कनेक्शन टीवी

बुंदेलखंड के ज्ञासी अहिरवार ने 20 किलो खाद से काम शुरू कर खड़ा किया करोड़ों रुपए का कारोबार

एक साधारण किसान ने जैविक खाद बनाकर करोड़ों का कारोबार खड़ा कर दिया, इनके जज्बे को बुंदेलखंड सलाम करता है।

वो दिन दूर नहीं जब ब्रज मंडल बन जाएगा दूसरा बुंदेलखंड
उत्तर प्रदेश

वो दिन दूर नहीं जब ब्रज मंडल बन जाएगा दूसरा बुंदेलखंड

ब्रज मंडल में भूगर्भ जलस्तर तेजी से नीचे जा चुका है। अगर वाटर रिचार्जिंग के बेहतर इंतजाम नहीं किए गए तो वो दिन दूर नहीं की आगरा मंडल दूसरा बुंदेलखंड के नाम से जाना जाएगा।

बुंदेलखंड के ज्यादातर गांव बुजुर्गों और बच्चों के हवाले!
संवाद

बुंदेलखंड के ज्यादातर गांव बुजुर्गों और बच्चों के हवाले!

यह नजारा वहां तक होता है जहां तक आपकी नजर देख सकती है। हां, कहीं कहीं जरूर खेतों में हरियाली है। ये वे किसान हैं, जिन्होंने अपने खेत में ट्यूबवेल लगा रखे हैं और थोड़ा पानी मिल गया है।

बुंदेलखंड के युवाओं ने परिवार की भूख मिटाने के लिए छोड़ा गाँव
देश

बुंदेलखंड के युवाओं ने परिवार की भूख मिटाने के लिए छोड़ा गाँव

बुंदेलखण्ड के गाँवों के कुंए सूख गए हैं। पानी का संकट बढ़ता जा रहा है व खेती की जमीनें भी सूखी पड़ी हैं। आसपास के गाँवों में भी लोगों के लिए कोइ काम नहीं है।

तालाबों के साथ बुंदेलखंड में सूख गया मछली व्यवसाय  
उत्तर प्रदेश

तालाबों के साथ बुंदेलखंड में सूख गया मछली व्यवसाय  

अगर इऩ तालाबों में पानी होता तो कई सौ करोड़ रुपए की मछली उत्पादन बुंदेलखंड में होता और लाखों लोगों को रोज़गार के जरिया मिलता।

कर्ज़ के चक्रव्यूह में बुंदेलखंड
देश

कर्ज़ के चक्रव्यूह में बुंदेलखंड

बुंदेलखंड की लोक कहावत बताती है कि कैसे कर्ज़ यहां के लोगों के जीवन का हिस्सा है। सूखे ने फसलें बर्बाद की, तो बैंकों के बाहर घूम रहे दलालों ने उन्हें कर्ज़ के चंगुल में फंसा दिया।

बुंदेलखंड : कभी यहां पहाड़ियां दिखती थीं, अब पहाड़ियों से भी गहरे गड्ढे  
देश

बुंदेलखंड : कभी यहां पहाड़ियां दिखती थीं, अब पहाड़ियों से भी गहरे गड्ढे  

पुल से झांकने पर ही केन नदी में पानी दिखता है। कुछ बच्चे पानी में खेलते मिल जाएंगे जो शायद सिर्फ बुंदेलखंड में मिलने वाला कीमती पत्थर शजर तलाश रहे हैं।

इन्हीं तालाबों में ज़िंदा है बुंदेलखंड का भविष्य
उत्तर प्रदेश

इन्हीं तालाबों में ज़िंदा है बुंदेलखंड का भविष्य

बारिश के पानी को रोककर बुंदेलखंड को सुरक्षित रखा जा सकता है। ये बात बुंदेलखंड के राजा-महाराजा बहुत पहले समझ गए थे। 9वीं से लेकर 16वीं शताब्दी तक हज़ारों की संख्या में तालाब बने। महोबा को तालाबों की नगरी तक कहा जाता है, यहां एक हज़ार से ज्यादा तालाब थे कभी।

समय रहते ध्यान न  दिया तो गायब हो जाएंगी बुंदेलखंड में नदियां 
उत्तर प्रदेश

समय रहते ध्यान न दिया तो गायब हो जाएंगी बुंदेलखंड में नदियां 

बुंदेलखंड की पांच नदियां-चंबल केन, सिंधु, बेतवा और सोन महत्वपूर्ण हैं। इनके साथ हुई छेड़छाड़ पूरे बुंदेलखंड में सूखे का संकट लेकर आई है।

बुंदेलखंड में जैविक खेती की अपार संभावनाएं: सोराज सिंह, कृषि निदेशक
कृषि व्यापार

बुंदेलखंड में जैविक खेती की अपार संभावनाएं: सोराज सिंह, कृषि निदेशक

जैविक कृषि विश्व कुंभ में दुनियाभर के 110 देशों के 1400 प्रतिनिधि और 2000 भारतीय प्रतिनिधि  हिस्सा ले रहे हैं।

बुंदेलखंड में तेजी से गिरा चने की खेती का ग्राफ
स्वयं प्रोजेक्ट

बुंदेलखंड में तेजी से गिरा चने की खेती का ग्राफ

बुंदेलखंड के ललितपुर जनपद में पिछले सात सालों में 2012 में सर्वाधिक चना 22,327 हेक्टेयर में बोया गया, जिसका उत्पादन 32,819 मैट्रिक टन उत्पादन हुआ, जो औसतन प्रति हेक्टेयर 14.70 कुन्तल का रहा। इसके बाद चने के बुवाई वाले क्षेत्रफल में प्राकृतिक आपदाएं, सूखा, अकाल, की मार से गिरावट के चलते किसानों का मोहभंग होता जा रहा हैं।

हमीरपुर में बोले सीएम योगी, बुंदेलखंड की जमीन पर हम किसी को प्यासा नहीं रहने देंगे
देश

हमीरपुर में बोले सीएम योगी, बुंदेलखंड की जमीन पर हम किसी को प्यासा नहीं रहने देंगे

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ अयोध्या के बाद बुंदेलखंड के दो दिवसीय दौरे पर रविवार को हमीरपुर पहुंचे गए है। जहां उन्होंने मच पर दीप जलाकर कार्यक्रम की शुरुआत की।

बुंदेलखंड के गरीबों की सूनी दिवाली को पुलिसवालों ने बनाया खुशनुमा
देश

बुंदेलखंड के गरीबों की सूनी दिवाली को पुलिसवालों ने बनाया खुशनुमा

बुंदेलखंड वैसे दो राज्यों मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में फैला हुआ है, मगर सहयोग की भावना हर तरफ है। दीपावली का पर्व आया तो लगभग हर तरफ उन गरीब और कमजोर वर्ग के तबके की लोगों की याद आई जो शायद ही दीपावली पर अपने घरों में दीपक जला पाते।

सूखे के लिए कुख्यात बुंदेलखंड से एक किसान की प्रेरणादायक कहानी
बदलता इंडिया

सूखे के लिए कुख्यात बुंदेलखंड से एक किसान की प्रेरणादायक कहानी

बुंदेलखड का किसान 10-15 लाख रुपए सालाना कमाता होगा, ये सोचना थोड़ा मुश्किल है। लेकिन कुछ किसान हैं जो सूखी धरती पर अपने ज्ञान और अनुभव के सहारे तरक्की की फसल उगा रहे हैं।

सूख गए हैं तालाब , नदियों में भी नहीं पानी ... ये बुंदेलखंड नहीं कन्नौज की तस्वीर है
गाँव कनेक्शन टीवी

सूख गए हैं तालाब , नदियों में भी नहीं पानी ... ये बुंदेलखंड नहीं कन्नौज की तस्वीर है

कन्नौज जिला मुख्यालय से करीब 12 किमी दूर औरैया-कन्नौज मार्ग से गुजरी ईसन नदी इस समय सूख गई है। पानी न होने की वजह से पशुपालक परेशान हैं। तालाबों में भी पानी न होने से दिक्कतें और बढ़ गई हैं।