महिलाओं को 30 की उम्र में करवानी चाहिए ये छह जांचें

महिलाओं को 30 की उम्र में करवानी चाहिए ये छह जांचें30 साल की उम्र के बाद मानव शरीर में बड़ी तेजी से बदलाव होने शुरू होते हैं।

लखनऊ। 30 साल की उम्र के बाद मानव शरीर में बड़ी तेजी से बदलाव होने शुरू होते हैं। हमारे शरीर में 20 से 30 साल की उम्र में कई परिवर्तन होते हैं। इस उम्र में बीमारियों का शिकार होने की संभावना बढ़ने लगती है। समय के साथ-साथ हम अपने दैनिक जीवन की चीजों में व्यस्त हो जाते हैं। 30 की उम्र तक आते आते एक समय होता है, जब हर तरह की जिम्मेदारियां हमारे सिर पर आ जाती हैं लेकिन सेहत की देखभाल कहीं न कहीं पीछे हो जाती है। आजकल की लाइफ स्टाइल के कारण जो बीमारियां 40 के बाद की उम्र में होती थीं वह अब 30 की उम्र में ही होने लगी हैं।

महिलाओं से संबन्धित सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप


केजीएमयू के डॉक्टर शशि कुमार का कहना है प्रत्यक्ष दिखने व महसूस होने वाली समस्याओं को हम जरूर हल कर लेते हैं, लेकिन कुछ बीमारियों के लक्ष्ण शुरुआत में जाहिर नहीं करती। ऐसे में सेहत के प्रति सचेत रहना और भी जरूरी हो जाता है। तो बेहतर है कि 30 की उम्र के बाद कुछ हेल्थ और मेडिकल चेक-अप करवा लिए जाएं ये टेस्ट कौन से हों बता रहे हैं केजीएमयू के डॉक्टर शशि कुमार...

स्किन की जांच

स्किन कैंसर से बचने के लिए इसकी जांच कराना बेहद आवश्यक है। इसलिए इस उम्र में ही स्किन की जांच करवाकर, स्किन कैंसर के खतरे को नकारें और आश्वस्त रहें।

ब्लड प्रेशर की जांच जरूरी

किसी भी तरह की स्वास्थ्य समस्या होने पर ब्लडप्रेशर की जांच जरूर कराएं। ताकि ब्लडप्रेशर नियंत्रित रखने में आसानी हो, वरना आपकी दूसरी समस्याएं बढ़ सकती हैं।

ब्रेस्ट कैंसर

ब्रेस्ट कैंसर की जांच जरूर कराएं, क्योंकि इसमें भी कैंसर के प्रारंभिक लक्षण दिखाई नहीं देते। जब आप पैप टेस्ट करवाने जाते हैं, तभी डॉक्टर से ब्रेस्ट कैंसर की जांच भी कराएं। इसके लिए आप हर तीन साल में मेमोग्राफी करवा सकती हैं।

आंखों की जांच

आंखें लंबे समय तक समान्य रहें, और किसी प्रकार की आई प्रॉब्लम न हो, इसके लिए आंखों का चेकअप कराना बेहद आवश्यक है। आज के दौर में बहुत कम उम्र में ही बच्चों को आंखों की समस्याओं से दो चार होना पड़ता है। ऐसे में आप अगर इससे सुरक्षित हैं, तो सतर्क जरूर रहें।

पैप टेस्ट

पेल्विक एग्जाम- 30 की उम्र जब पार कर रहे हों, तभी से पेल्विक एग्जाम की जांच शुरू करवा दें, जो कि यूटेरस की सही स्थिति का पता लगाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा पैप टेस्ट भी हर साल करवाएं। पैप टेस्ट सर्वाइकल कैंसर की जांच के लिए किया जाता है, ताकि ऐसी किसी भी स्थिति में पहले की समस्या का पता लगाकर इलाज शुरू किया जा सके।

कोलेस्ट्रॉल

शरीर व खून में कॉलेस्ट्रॉल के स्तर की जांच करवाना बेहद आवश्यक है। क्योंकि इनका असामान्य होना, आपको गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित बना सकता है।

Share it
Top