सेहत की रसाेई में पढ़े कैसे बनाए सहजन और करौंदे की चटनी

सेहत की रसाेई में पढ़े कैसे बनाए सहजन और करौंदे की चटनीgaonconnection

सेहत की रसोई में मास्टर शेफ भैरव सिंह राजपूत इस बार हमारे पाठकों के लिए ला रहे हैं दो बेहतरीन पारंपरिक चटनियों की रेसिपी। भैरव इस सप्ताह सहजन की पत्तियों और कच्चे करौंदे की चटनी की खास रेसिपी हमारे पाठकों से साझा करेंगे और इन दोनों रेसिपी के औषधीय गुणों की वकालत करेंगे हमारे अपने हर्बल आचार्य यानि डॉ दीपक आचार्य:

कच्चे करौंदे की चटनी

सामग्री: 50 ग्राम ताज़े करौंदे, गुड़, नमक, हरी मिर्च और पानी

विधि: कच्चे करौंदे स्वाद में बेहद खट्टे होते हैं और जब इनकी चटनी गुड़ के साथ तैयार की जाए तो स्वाद का आनंद दुगुना होना जायज़ है। करीब 50 ग्राम करौंदे लेकर साफ धो लें, मिर्च की भी धुलाई कर ली जाए। इन दोनों को मिक्सर में डालें और इसमें स्वादानुसार गुड़ भी मिला दें। ध्यान रहे गुड़ की मात्रा बहुत ज्यादा ना हो वरना चटनी का वो मज़ा नहीं रह पाएगा। इन तीनों को मिक्सर में ग्राइंड कर लें। ग्राइंड होने के बाद इसे कटोरी में सजा दें और ऊपर से हल्का नमक का छिड़काव कर दें, यदि ताज़ी हरी धनिया का पत्तियां हो तो चटनी को इससे भी संवार दें। लो जी, हो गई स्वाद और सेहत की चटनी तैयार, उम्मीद है हमारे पाठक इसका स्वाद जरूर लेंगे।

सहजन की चटनी

सामग्री: सहजन की पत्तियां करीब 50 ग्राम, काला नमक, 2-3 ताज़ी हरी मिर्च, एक टमाटर और थोड़ा सा पानी।

विधि: सहजन की ताज़ी हरी पत्तियों को साफ धो लिया जाए, मिर्च और टमाटर को बारीक काट लें और इन तीनों को सिलबट्टे में कुचल लें। कुचलते समय थोड़ा पानी मिला लें ताकि कुचलना आसान हो जाए। जब ये ठीक तरह से महीन हो जाए तो इसमें स्वादानुसार काला नमक मिला दें और यदि काला नमक उपलब्ध ना हो तो साधारण नमक मिलाया जा सकता है। चटनी तैयार हो जाए तो कटोरी में एकत्र कर लें और अपने डाइनिंग टेबल पर सजा दें। इस चटनी को ताज़ा तैयार करके खाने का अपना अलग आनंद है। जो लोग धनिया के स्वाद का आनंद लेना पसंद करते हैं वे इस चटनी को कुचलते समय स्वादानुसार ताज़ी धनिया की पत्तियां या धनिया के सूखे बीजों का पाउडर भी डाल सकते हैं। ये चटनी स्वाद के साथ साथ आपकी सेहत का भरपूर ख्य़ाल रखेगी। हर्बल आचार्य आपको इस चटनी के गुणों से अवगत कराएंगे ही।

क्या कहते हैं हर्बल आचार्य

डॉ दीपक आचार्य के अनुसार सहजन की पत्तियां आपकी आंखों के लिए किसी वरदान से कम नहीं हैं, जो लोग ताज़ी हरी पत्तियों को अपने भोजन का हिस्सा बनाते हैं उन्हें आंखों से जुडी समस्याएं यदा कदा ही होती है। माना जाता है कि हमारे शरीर के लिए आवश्यक विटामिन ‘ए और ‘ई  की भरपूर मात्रा सहजन की पत्तियों में होती है। मेरा तो ये तक मानना है कि सहजन की पत्तियों को सुखाकर बतौर मसाला भी प्रतिदिन इस्तेमाल में लाया जाना चाहिए। सहजन की पत्तियां पेट से कृमियों का भी सफाया कर देती है। इस सप्ताह भैरव करौंदे की चटनी की भी बात कर रहे हैं और मैं पूरी तरह से सहमत हूं कि स्वाद के अलावा करौंदा आपकी सेहत का भी ख़्याल रखेगा आखिर इसमें वो खास गुण जो है। पेट की समस्या हो या लीवर की, किडनियों की बात की जाए या पेशाब नलिका के संक्रमण की, करौंदे में वे सारे गुण हैं जो इन समस्याओं की छुट्टी कर सकते हैं। खूब खाएं और मजे से खाएं इन दोनों स्वादिष्ट चटनियों को और हां हमारे मास्टरशेफ भैरव सिंह का शुक्रिया जरूर अदा करें।

First Published: 2016-09-16 16:21:13.0

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top