सेहत की रसोई में जाने मेथी और तिल के गुण

सेहत की रसोई में जाने मेथी और तिल के गुणgaonconnection

ये एक ऐसा कॉलम है जिसमें हम आपकी रसोई और स्वाद को बेहतर करने के लिए एक से बढ़कर एक स्वादिष्ट रेसिपी की जानकारी परोसते हैं। हमारे मास्टरशेफ भैरव सिंह की बतायी रेसिपी के गुणों की वकालत हमारे हर्बल आचार्य डॉ दीपक आचार्य करते हैं।

सेहत और किचन के तड़के को ध्यान में रखकर ‘सेहत की रसोई’ कॉलम आप तक पहुंचाया जाता है। हमारे दोनों एक्सपर्ट्स का मानना है कि आपकी सेहत को दुरुस्त रखने के सारे उपाय आपकी रसोई में ही उपलब्ध हैं। सेहत की रसोई यानि बेहतर सेहत आपके बिल्कुल करीब। इस कॉलम के जरिये हमारा प्रयास है कि आपको आपकी किचन में ही सेहतमंद बने रहने के व्यंजन से रूबरू करवाया जाए। सेहत की रसोई में इस सप्ताह मास्टरशेफ हमारे पाठकों के लिए ला रहे हैं एक पारंपरिक पेय ‘मेथी तिल की टिक्की’

मेथी तिल की टिक्की

आवश्यक सामग्री

  • (दो व्यक्तियों के लिए)
  • ताजी हरी मेथी भाजी- 100 ग्राम
  • उबला आलू- 1
  • जीरा पाउडर- 1 चम्मच
  • हरी मिर्च- 2
  • लहसुन- 5
  • सफेद तिल- 20 ग्राम
  • चना पाउडर- 20 ग्राम
  • नमक स्वादानुसार
  • देसी घी

विधि

एक मिक्सिंग बाउल लें इसमें उबले हुए आलू को बारीक काटकर डाल दें। हरी मेथी को साफ धोकर बारीक बारीक काटकर तैयार करें। लहसुन और हरी मिर्च को भी बारीक काटकर तैयार करें। हरी कटी हुई मेथी, लहसुन और मिर्च को इस मिक्सिंग बाउल में आलू के साथ मिला दें।

इसी मिक्सिंग बाउल में जीरा पाउडर, चना पाउडर और नमक भी डाल दें। अब इस सारे मिक्सचर को अच्छे से मिला लें और इसमें से थोड़ी- थोड़ी मात्रा लेकर गोल- गोल टिक्कियां तैयार करें। इन टिक्कियों को तिल के दानों पर रोल करें ताकि तिल इसकी बाहरी सतह से चिपक जाएं। एक तवे पर घी को गर्म करें और इन टिक्कियों अगले २ मिनट तक यानी हल्की लाल- गुलाबी होने तक रोस्ट करें और इस तरह तैयार हो जाएंगी मेथी तिल की टिक्की।

क्या कहते हैं हमारे हर्बल आचार्य

कमाल की रेसिपी बताई है मास्टरशेफ ने इस सप्ताह। बरसात के मौसम में गर्मागर्म टिक्की और तो और मेथी की टिक्की, वाह! मेथी को डायबिटीज रोगियों के लिए खास माना जाता है और आमतौर पर यही धारणा है कि इसे सिर्फ ताकत और रक्त की बेहतरी के लिए खाया जाना चाहिए लेकिन सच्चाई ये है कि मेथी कई रोगों के निवारण के लिए बेहद खास है। मेथी का सेवन बालों की सेहत के लिए उत्तम माना जाता है। मेथी की ताजी हरी पत्तियों की सब्जी निम्न रक्तचाप में काफी कारगर साबित होती है।

मेथी की पत्तियों का ताजा रस अस्थमा के रोगी को काफी आराम दिलाता है। मेथी में सेपोनिन्स और डायोसजेनिन नामक दो ऐसे तत्व हैं जो शरीर में स्टीरॉयड्स व एस्ट्रोजन की तरह काम करते हैं। इनकी वजह से पीरियड्स के दौरान पड़ने वाले क्रैंप और पेट दर्द में भी आराम मिलता है। तिल बालों के लिए खास है। घी की मात्रा कम लें और कोशिश करें इन टिक्कियों के साथ अचार ना खाएं, बस मजे लें इन टिक्कियों के और हमारे मास्टरशेफ को धन्यवाद देना ना भूलें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top